किसान आंदोलन: फिर भड़की हिंसा, एक और किसान की मौत

किसान आंदोलन: फिर भड़की हिंसा, एक और किसान की मौतमध्य प्रदेश के शाजापुर में ताजा हिंसा की तस्वीरें आ रहीं सामने।

मंदसौर। किसान आंदोलन की आग में झुलस रहे मध्य प्रदेश के शाजापुर में ताजा हिंसा की खबर है। किसानों ने कई हंगामा और आगजनी की है। इसके अलावा राजधानी भोपाल के फंदा टोल नाके पर भी किसानों के हंगामा करने की खबर है। किसानों ने वहां जमकर पत्थरबाजी की है। इसके बाद पुलिस उन्हें खदेड़ने में कामयाब रही है।

भोपाल के पास सिहोर में भी पुलिस ने किसानों पर हवाई फायरिंग की है। इस बीच मंदसौर हिंसा में घायल एक और किसान की मौत हो गई है। पुलिस पिटाई में वो गंभीर रूप से घायल हो गया था और उसका इलाज चल रहा था। एमपी के रायसेन में एक किसान श्रीकृष्ण मीणा ने भी जहर खाकर खुदकुशी कर ली है। वो 12 लाख रुपये के कर्ज से परेशान थे। इनकी दो छोटी बेटी और एक बेटा है। इसके अलावा एक और किसान ने इंदौर हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया। खबर सुनकर उसकी पत्नी ने भी आत्महत्या की कोशिश की।

इधर, मंदसौर में आज (शुक्रवार को) प्रशासन ने कर्फ्यू में सुबह 10 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक ढील दी है। इसके बाद बाजारों में लोगों का आना-जाना शुरू हो गया है। लोग अपनी जरूरत का सामान खरीद रहे हैं। इसके साथ ही वहां जनजीवन धीरे-धीरे पटरी पर लौटता हुआ दिख रहा है। शहर में पेट्रोल पंप, सब्जी, फल और राशन की दुकानों पर लोग इकट्ठा होते दिखे। हालांकि, प्रशासन ने किसी भी तरह की सभा पर रोक लगा रखी है। इससे पहले प्रशासन ने गुरुवार को भी शाम में दो घंटे के लिए कर्फ्यू में ढील दी थी। फिलहाल हालात को देखते हुए पुलिस दल भी शहर में गश्त कर रहा है।

मध्यप्रदेश : और उग्र हुआ किसान आंदोलन, पढ़िए पूरा अपडेट

156 लोगों की हुई गिरफ्तारी

मंदसौर के नए एसपी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि अब वहां स्थिति सामान्य है। उन्होंने बताया कि हिंसा फैलाने के आरोप में पुलिस ने अबतक कुल 156 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही एसपी ने कहा है कि किसी बी बाहरी व्यक्ति को शहर में घुसने नहीं देंगे। जबकि आम आदमी पार्टी ने एलान किया है कि उसकी टीम आज मंदसौर जाकर पीड़ित किसानों से मुलाकात करेगी।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top