कई राज्यों में शुरू हुआ चक्का जाम, कक्काजी सहित 8 किसान नेता गिरफ्तार

कई राज्यों में शुरू हुआ चक्का जाम, कक्काजी सहित 8 किसान नेता गिरफ्तारकिसान संगठनों के आह्वान पर शुक्रवार को देशभर के हाइवों पर किसानों ने तीन घंटे का जाम किया।

नई दिल्ली/मध्य प्रदेश/जयपुर/रायपुर। भारतीय किसान महासंघ के आह्वान पर आज (शुक्रवार) 22 राज्यों के हाईवे पर किसानों ने जाम लगा दिया है। किसानों के जाम का सेंटर ऑफ टेड यूनियंस (सीटू) ने भी समर्थन किया है। पिछले दिनों हुई हिंसा के मद्देनजर आज सुबह से ही सड़कों पर पुलिस उतार दी गई है।

किसान नेता शिवकुमार शर्मा ने बताया कि आज के आंदोलन में किसानों के कई संगठनों ने साथ दिया। वहीं सीटू के राष्ट्रीय महासचिव तपन सेन ने कहा है, कि मोदी सरकार पूंजीपति परस्त नीतियां बना रही है। इधर, भोपाल में इंदौर-भोपाल रोड, मुबारकपुर, ईटखेड़ी, आनंद नगर, मिसरोद पर करीब 800 जवान चौकसी कर रहे हैं। व्यवस्था की मॉनीटरिंग खुद डीआईजी डॉ. रमन सिंह सिकरवार कर रहे हैं। इस बीच कुछ किसान नेताओं के नजरबंद किए जाने की खबर है, हालांकि पुलिस ने इससे इंकार किया है।

तैनात किए गए सुरक्षा बल

किसान संगठनों के आह्वान पर शुक्रवार को देशभर के हाइवों पर किसानों ने तीन घंटे का जाम किया। इस दौरान राष्ट्रीय राजमार्गों पर बड़ी संख्या में ट्रकों और बसों के पहिये थम गये। आंदोलन में हिंसा को रोकने के लिए पुलिस और अन्य सुरक्षा बल तैनात रहे।

कक्काजी हुए गिरफ्तार

भोपाल में मिसरोद के पास 11 मील पर दोपहर 12 से 3 बजे के बीच चक्काजाम हुआ। यहां जाम कर रहे भारतीय किसान मजदूर महासंघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ‘कक्काजी’ को 8 किसान नेताओं के साथ गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं देवास, रतलाम, इंदौर सहित अन्य हाइवे पर किसानों ने वाहनों को रोका।

सीटू ने किया समर्थन

आंदोलन में सेंटर ऑफ टेड यूनियंस (सीटू) ने समर्थन देने का निर्णय लिया। कांग्रेस ने भी अपना समर्थन दिया। सूत्रों से मिलीं जानकारी के अनुसार चक्काजाम की खबर मिलने के बाद से ट्रक चालकों ने राष्ट्रीय मार्गों पर पहिये रोक दिये। इंदौर, देवास, रतलाम के हाइवों पर पुलिस ज्यादा सतर्क रही।

ट्रक-बस मालिकों ने भी रोके पहिए

पिछले दिनों आंदोलन के दौरान हुई आगजनी में हुए नुकसान के बाद ट्रांसपोटर्स सतर्क हैं। आल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के सदस्य व अखिल एमपी ट्रांसपोर्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष विजय कालरा के मुताबिक शुक्रवार को किसानों द्वारा किए जा रहे जाम के कारण हजारों की संख्या में ट्रक-बसों को 11 बजे से 3 बजे तक हाईवे पर सुरक्षित जगहों पर खड़े रहने को कहा गया है। इंदौर और इसके आसपास 5000 से ज्यादा ट्रक तथा भोपाल के आसपास 800 से ज्यादा ट्रक-बस खड़े हैं।

मंदसौर-रतलाम से लौटे मुख्यमंत्री, आज कोई मुलाकात नहीं

लगातार दो दिनों तक मंदसौर और रतलाम में किसानों से मुलाकात करने, आंदोलन में मृत किसानों के परिजनों से मिलने और उन्हें सांत्वना देने के बाद मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भोपाल वापस लौट आए है। लगातार दो दिनों तक आम नागरिकों और किसानों से मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने शुक्रवार का दिन अपने आपको फ्री रखा है। शुक्रवार को उनका पूरा दिन रिजर्व रखा गया है। शुक्रवार को उन्होंने किसी से कोई मुलाकात नहीं की। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री दो दिनों से मंदसौर गोलीकांड में मारे गए किसानों और अन्य पीड़ित किसानों से मुलाकात कर रहे थे।

62 किसान संगठन कर रहे हैं जाम

भारतीय किसान मजदूर संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा कक्काजी ने बताया कि दिल्ली में 62 किसान संगठनों के साथ बैठक करते हुए निर्णय लिया गया था कि 16 जून को देशव्यापी आंदोलन किया जायेगा। इसके अन्तर्गत सभी हाइवों पर चकाजाम किया जायेगा। उन्होंने कहा कि आंदोलन पूरी तरह से अहिंसात्मक रहने के लिये संगठनों से कहा है।

राजस्थान के कई जिलों में यातायात प्रभावित

राजस्थान में किसानों के महापड़ाव का दूसरा दिन है। शुक्रवार को किसानों ने राजस्थान के कई जिलों में चक्काजाम की चेतावनी के बाद हुनमानगढ़ व श्रीगंगानगर में चक्काजाम प्रारंभ हो गया है। शुक्रवार सुबह करीब दस बजे हनुमानगढ़ के टिब्बी में किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग जाम कर दिया है। जिसके कारण दोनों और वाहनों की लंबी लाइनें लग गई है। वहीं श्रीगंगानगर के सूरतगढ़ में किसान दोपहर 12 बजे से चक्काजाम करेंगे।

छत्तीसगढ़ में भी किसानों का चक्का जाम, अजीत जोगी पहुंचे धरना स्थल

छत्तीसगढ़ में भी किसानों ने बिगुल फूंक दिया है। शुक्रवार को राजधानी रायपुर सहित प्रदेश भर में चक्का-जाम किया जा रहा है। चक्का जाम को देखते हुए सभी स्थानों पर बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है। राजधानी रायपुर के छेरीखेड़ी में किसानों ने आंदोलन शुरू कर दिया है और जमकर नारेबाजी कर रहे हैं। किसान बीच सड़क में ही बैठकर चक्काजाम कर दिए हैं। चक्काजाम की वजह से सड़क के दोनों तरफ गाड़ियों की कतार लग गई। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी भी चक्का जाम में शामिल हुए।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top