खुशखबरी: भारत में पैदा हुआ पहला हम्बोल्ट पेंगुइन

वर्ष 2017 में दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल से आठ हम्बोल्ट पेंगुइन को मुंबई के भायखला चिड़ियाघर में लाया गया था। इनमे से साढ़े चार साल की मादा हम्बोल्ट पेंगुइन फ्लीपर ने मोल्ट के साथ मिलकर पांच जुलाई को एक अंडा दिया था।

खुशखबरी: भारत में पैदा हुआ पहला हम्बोल्ट पेंगुइन

मुंबई (भाषा)। मुंबई के वीरमाता जिजाबाई भोसले उद्यान एवं चिड़ियाघर में 15 अगस्त को एक नन्हे से हम्बोल्ट पेंगुइन ने जन्म लिया। यह देश में जन्म लेने वाला पहला पेंगुइन चूजा बन गया है।

वर्ष 2017 में दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल से आठ हम्बोल्ट पेंगुइन को मुंबई के भायखला चिड़ियाघर में लाया गया था। इनमे से साढ़े चार साल की मादा हम्बोल्ट पेंगुइन फ्लीपर ने मोल्ट के साथ मिलकर पांच जुलाई को एक अंडा दिया था, जिसके बाद देश में पहली बार एक नन्हे हम्बोल्ट पेंगुइन ने जन्म लिया है और उनके कुनबे को भी बढ़ाया है।



चिड़ियाघर के निदेशक डॉक्टर संजय त्रिपाठी ने बताया, "चूजा अच्छा दिख रहा है और इसकी मां फ्लिपर इसे खाना खिलाने का प्रयास कर रही है।" त्रिपाठी ने आगे बताया कि फ्लिपर ने पांच जुलाई को एक अंडा दिया था। अंडा सेने की अवधि आमतौर पर 40 दिन की होती है। '' उन्होंने बताया कि चिड़ियाघर में मौजूद सात पेंगुइन में से मोल्ट सबसे छोटा है और फ्लिपर इस दल में सबसे बड़ी है। नन्हा चूजा इन दोनों की ही संतान है। मोल्ट और फ्लिपर में कुछ समय पहले ही दोस्ती हुई थी।

यह भी पढ़ें- असहाय हाथियों की देखरेख का ये है अनूठा ठिकाना

चिड़ियाघर के अधिकारी ने आज बताया कि "कल रात करीब आठ बजे नगर निगम द्वारा संचालित चिड़ियाघर में चूजा अंडे से बाहर निकला।" वृहन्नमुंबई नगर निगम (बीएमसी) के एक अधिकारी ने बताया कि यह पहला पेंगुइन है जिसने देश में जन्म लिया है।

चिड़ियाघर के अधिकारियों ने नवजात चूजे की तस्वीर और एक छोटा वीडियो भी जारी किया है।

हम्बोल्ट पेंगुइन आम तौर पर साढ़े तीन साल की उम्र में अंडे देते है। मार्च-अप्रैल और अक्टूबर-नवंबर पेंगुइन प्रजनन के मौसम होते है। 40 दिनों के बाद, अंडे से बच्चा निकलता है , हालांकी रानीबाग के कर्मचारियों ने अभी से ही तैयारी शुरु कर दी है।

Share it
Share it
Share it
Top