बिहार में खौफनाक होता जा रहा है मंजर, बाढ़ से लगभग डेढ़ करोड़ आबादी प्रभावित

बिहार में खौफनाक होता जा रहा है मंजर, बाढ़ से लगभग डेढ़ करोड़ आबादी प्रभावितबहिार में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बचाव कार्य के दौरान एनडीआएएफ की टीम

पटना। पड़ोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आई बाढ़ से प्रदेश में अब तक 202 लोगों की मौत हो जाने के साथ बाढ़ से 18 जिलों की 1.21 लाख आबादी प्रभावित हुई है।

राज्य सरकार के द्वारा बाढ़ में घिरे लोगों को एनडीआरएफ, सेना और प्रशासन ने सुरक्षित निकाले जाने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। अब तक 6 लाख 25 हजार सात सौ अट्ठासी लोगों को बाढ़ प्रभावित इलाके से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है और 1336 राहत शिविरों में 4 लाख 22 हजार एक सौ छह व्यक्ति शरण लिए हुए हैं।

18 जिलों में हुई मौतें

बाढ़ प्रभावित प्रदेश के 18 जिलों किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, समस्तीपुर, गोपालगंज, सारण, सुपौल, मधेपुरा, सहरसा और खगडिया में से सबसे अधिक 42 लोग अररिया में, सीतामढी में 31, पश्चिमी चंपारण में 29, सुपौल में 13, मधुबनी में 12, किशनगंज और पूर्वी चंपारण में 11, दरभंगा में 10, मधेपुरा और पूर्णिया में 9, कटिहार में 7, शिवहर, गोपालगंज, एवं सहरसा में 44, खगडिया में 3, सारण में 2, मुजफ्फरपुर में एक व्यक्ति की मौत हुई है।

ये भी पढ़ें:- बिहार में बाढ़ की असली तस्वीर दिखाती हैं ये फेसबुक पोस्ट्स

1879 सामुदायिक रसोईघर के भरोसे लगभग चार लाख लोग

बाढ़ राहत शिविर के अतिरिक्त वैसे प्रभावित व्यक्ति जो राहत शिविरों में नहीं रह रहे हैं उनके लिए सामुदायिक रसोई घर चलाये जा रहे हैं। इस तरह कुल 1879 सामुदायिक रसोईघर चलाए जा रहे हैं जिसमें 3 लाख 72 हजार तीन सौ चौंतीस लोगों को भोजन कराया जा रहा है।

युद्धस्तर पर चल रहा है बचाव कार्य

एनडीआरएफ की 28 टीम 1152 जवानों और 118 वोट के साथ, एसडीआरएफ की 16 टीम 446 जवानों एवं 92 वोट के साथ और सेना की 7 कॉलम 630 जवानों और 70 बोट के साथ बचाव एवं राहत कार्य में जुटी हुई हैं।

बाढ़ से धिरी जगहों पर हेलिकॉप्टर से भेजा जा रहा खाद्य

बिलार के सुगौली और आसपास के इलाके और पश्चिम चम्पारण के गौनहा, चनपटिया, नरकटियागंज, पूर्णियां जिले के बायसी अनुमंडल, अररिया और किशनगंज के प्रभावित क्षेत्रों में हेलिकॉप्टर के माध्यम से कुल 49 खेप में 19 हजार 5 सौ 83 पैकेट के द्वारा कुल 78 हजार 334 किलोग्राम सूखा राशन एयर ड्राप किया गया है।

ये भी पढ़ें:- बिहार : टूटते बांध को बचाने के लिए खुद बालू की बोरियां ढोने लगे डीएम और एसपी

राहत और बचाव कार्य तेज करने के निर्देश

इसके अतिरिक्त शनिवार से एक अतिरिक्त हेलिकॉप्टर सुगौली और आसपास के इलाके में सघन रूप से एयरड्रॉप का कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर शनिवार आपदा प्रबंधन विभाग प्रधान सचिव, पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव, ग्रामीण कार्य विभाग के सचिव, गृह रक्षा वाहिनी महानिदेशक के द्वारा किशनगंज, अररिया और पूर्णयिा में राहत एवं बचाव कार्यों की समीक्षा और राहत शिविरों सामुदायिक रसोई एवं फूड पैकेट के पैकिंग का निरीक्षण भी किया गया।

ये भी पढ़ें:- बिहार बाढ़ : एनडीआरएफ की बचाव नौका में गूंजी किलकारी

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top