बाढ़ की चपेट में पश्चिमी चंपारण- लोग रातों को सोते नहीं कहीं गंडक नदी में कहीं उनका गांव न कट जाए

बाढ़ की चपेट में पश्चिमी चंपारण- लोग रातों को सोते नहीं कहीं गंडक नदी में कहीं उनका गांव न कट जाएChamparan flood impact

बगहा (पश्चिमी चंपारण)। बिहार बाढ़ ने तबाही मचा रखी है। पूर्वा चंपारण के कई भारी चपेट में हैं। पूर्वी चंपारण के बगहा, नरकटियागंज गौनहरा समेत कई इलाकों में लोगों के घरों में पानी घुस गया है और वो छतों पर रहने को मजबूर हैं।

बगहा निवासी सामाजिक कार्यकर्ता अलोक कुमार ने गांव कनेक्शन को बताया कि खाने-पीने की बहुत दिक्तत होने वाली है क्योंकि ट्रेन मार्ग बंद है और सड़कें जगह-जगह से कट गई हैं। बिहार जाने वाली सप्तक्रांति को भी डाइवर्ट कर दिया गया है। ये गंडक नदी का इलाका है और ये नदी बहुत कटान करती है।

आलोक आगे बताते हैं, नदी के कटान का इतना डर है कि लोग रातों को सो नहीं पा रहे हैं कि कहीं उनका ही गांव न कट जाए क्यों ये नदी कुछ घंटों में पूरे के पूरे गांव को अपने अंदर समा लेती हैं। आलोक ने बाढ़ की समस्या को लेकर अपने फेसबुक पर एक वीडियो भी शेयर किया है। आलोक के मुताबिक सिर्फ बगहा की 24 ग्राम पंचायतों के 100 गांव भीषण बाढ़ की चपेट में हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक बाढ़ से तभी राहत मिलेगी जब बारिश रुकेगी

बहगा के गांव का नजरा।

Share it
Share it
Share it
Top