ममता बनर्जी की हत्या के लिए दी गई 65 लाख की सुपारी, बढ़ाई गई सुरक्षा, जांच में जुटी एजेंसियां

ममता बनर्जी की हत्या के लिए दी गई 65 लाख की सुपारी, बढ़ाई गई सुरक्षा, जांच में जुटी एजेंसियांममता बनर्जी

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की जान को खतरा है। इसका अंदाजा इसी बता से लगाया जा सकता है कि उनकी हत्या के लिए व्हाट्सऐप पर 65 लाख रुपये की सुपारी दी गई है। पुलिस ने मामले की संजीदगी को देखते हुए मामले की जांच शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक ममता बनर्जी की हत्या को मैसेज व्हाट्सऐप के जरिए भेजा गया है। बेहरमपुर में 19 वर्ष के एक छात्र को व्हाट्सऐप पर ये मैसेज मिला है।

सीएम ममता की बढ़ाई गई सुरक्षा

यह छात्र पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के बेरहमपुर का रहने वाले एक छात्र को व्हाट्सऐप पर मिला है। मैसेज मिलते ही छात्र ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई तो हड़कंप मच गया। इस वाकये के बाद सीएम ममता की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

अमेरिका के फ्लोरिडा से भेजा गया मैसेज

जांच में पता चला है कि यह मैसेज अमेरिका के फ्लोरिडा में रह रहे एक छात्र के फोन नंबर से भेजा गया है। शिकायत करने वाले छात्र ने बताया, 'मुझे सोमवार की दोपहर फ्लोरिडा से मैसेज मिला था। मैसेज भेजने वाला खुद को आंतकी संगठन के लिए काम करने वाला बता रहा था। उसे भारत में पार्टनर की तलाश है।'

65 लाख रुपए का दिया ऑफर

मीडिया में आई रिपोर्ट की मानें तो ममता की हत्या की सुपारी देने वाले ने लिखा है, 'मैं भारत में इस काम में सहायता के लिए 100,000 डॉलर (65 लाख रुपये) देने को तैयार हूं। इस मामले में आपकी सुरक्षा की गारंटी मेरी होगी। चिंता की कोई बात नहीं, बस तैयार हो जाओ।'

छात्र के उड़े होश

इस मैसेज को पढ़ने का बाद बेहरमपुर के छात्र के होश उड़ गए। उसने उसके जबाव में थोड़ा इंतजार करने का समय मांगा। इसके बाद फ्लोरिडा के छात्र ने लैटिन में लिखा, 'ओके, जो भी करो जल्दी करो। 100,000 डॉलर आपके इंतजार में है। देरी की तो यह काम मैं किसी ओर से करा लूंगा।'

अमेरिकी जांच एजेंसी से साधा जा रहा संपर्क

इसके बाद बेहरमपुर के घबराए छात्र ने नो थैंक्स लिखकर मना कर दिया। इसके बाद छात्र ने पुलिस में मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। फ्लोरिडा के नंबर और उसे चलाने वाले की खोज की जा रही है। इसके लिए अमेरिकी जांच एजेंसी से भी संपर्क साधा जा रहा है।

ये भी पढ़ें:- हर्षिता ने फेसबुक पर मिली धमकियों पर कहा था ‘मैं जाटनी हूं डरती नहीं’ , किसानों के लिए थी चिंतित

राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं था, बच्ची भात-भात कहते मर गई

Share it
Top