पांच लाख के ईनामी गैंगस्टर का इनकाउंटर, 5 राज्यों की पुलिस को थी तलाश

पांच लाख के ईनामी गैंगस्टर का  इनकाउंटर, 5 राज्यों की पुलिस को थी तलाशईनामी कुख्यात बदमाश आनंदपाल सिंह की फाइल फोटो।

जयपुर। करीब डेढ़ साल से फरार चल रहा पांच लाख रुपए का ईनामी कुख्यात बदमाश आनंदपाल सिंह आखिरकार मारा गया। शनिवार रात करीब 11:25 बजे एसओजी ने चूरू के मालासर में एनकाउंटर के दौरान उसे मार गिराया। मुठभेड़ के दौरान आनंदपाल और उसके दो साथियों ने एके 47 समेत अन्य हथियारों से 100 राउंड फायर किए। इस दौरान आनंदपाल को 6 गोलियां लगी। आनंदपाल राजस्थान, मध्य प्रदेश यूपी, पंजाब और हरियाणा में वॉन्टेड था।

मुठभेड़ के दौरान एसओजी के सीआई सूर्यवीर सिंह के हाथ टूट गया है, जबकि पुलिसकर्मी सोहन सिंह धर्मपाल गोली लगने से घायल हो गए। सोहन की हालत गंभीर बताई जा रही है। आनंदपाल के पास से 2 एके-47 400 कारतूस मिले हैं। एसओजी ने आनंदपाल के दो भाइयों देवेंद्र उर्फ गुट्‌टू और विक्की को हरियाणा के सिरसा से गिरफ्तार किया था। पूछताछ में पता चला कि आनंदपाल मालासर में श्रवण सिंह नामक शख्स के घर पर छिपा हुआ है।

डीजीपी मनोज भट्ट ने बताया कि पिछले डेढ़ महीने से एसओजी के आईजी दिनेश एमएन के सुपरविजन में एडिशनल एसपी संजीव भटनागर हरियाणा में डेरा डाले हुए थे। इस दौरान संजीव भटनागर ने आनंदपाल के भाई विक्की देवेन्द्र को सिरसा से शाम छह बजे गिरफ्तार किया। इसके बाद एसओजी की एक टीम करण शर्मा की अगुआई में चूरू जिले के मालासर गाँव में पहुंची। यहां आनंदपाल दो दिन पहले आया था। एसओजी ने घेराबंदी कर आनंदपाल को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन वह छत पर जाकर पुलिस पर फायरिंग करने लगा। एसओजी की जवाबी कार्रवाई में वह मारा गया।

2006 में रखा था अपराध की दुनिया में कदम

आनंदपाल का शव जयपुर लाया जा रहा है। डीजीपी मनोज भट्ट ने इसकी पुष्टि की है। आनंदपाल के बारे में कहा जाता है कि उसने 2006 में अपराध की दुनिया में कदम रखा था। उस साल उसने डीडवाना में जीवनराम गोदारा की हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड के अलावा आनंदपाल पर डीडवाना में ही 13 मामले दर्ज थे, जहां 8 मामलों में कोर्ट ने आनंदपाल को भगौड़ा घोषित किया हुआ था।

2015 में हुआ था फरार

आनंदपाल सितंबर 2015 में नागौर की कोर्ट में पेशी के बाद वापस अजमेर जेल में भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच लाते समय पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया था।

फेसबुक पर रहता था सक्रिय

आनंदपाल के बारे में बताया जाता है कि वह फेसबुक पर सक्रिय रहता था। उसका अपना फेसबुक पेज था, जिस पर उसके फैन्स भी थे। वह समाज से जुड़ी अखबारों में छपने वाली खबरों को भी पोस्ट करता था।

अनुराधा चौधरी।

अनुराधा चौधरी से थे संबंध

आनंदपाल के अनुराधा चौधरी से संबंध बताए जाते थे। अनुराध लेडी डॉन है, जो फिलहाल जेल में कैद है। वह सीकर की रहने वाली है और उसने दीपक मिंज से शादी की थी। वह शेयर मार्केट में भी पैसा लगाती थी। बताते हैं कि भारी नुकसान होने के बाद उसने आनंदपाल से हाथ मिलाया था।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top