ज्ञानी चाचा और भतीजे ने सिखाया फेक न्यूज और सच्ची खबर का भेद

गांव कनेक्शन मोबाइल चौपाल का गांव रथ 6 जुलाई को पहुंचा लखनऊ के कुछ स्कूलों में और दी इंटरनेट सिक्युरिटी की जानकारी।

Ashwani DwivediAshwani Dwivedi   9 July 2018 10:10 AM GMT

ज्ञानी चाचा और भतीजे ने सिखाया फेक न्यूज और सच्ची खबर का भेद

लखनऊ । सोशल मीडिया और इंटरनेट ने देश के हर तबके को असीमित ताकत दे दी है। हर उम्र के लोग आजकल सोशल मीडिया और इंटरनेट जमकर प्रयोग कर रहे हैं। पर इनमें से अधिकांश सोशल मीडिया का इस्तेमाल मौज-मस्ती और टाइम पास के तौर पर करते हैं। साथ ही अनजाने में सोशल मीडिया पर आई फेक न्यूज़ या झूठी खबर को भी सही मानकर वायरल कर देते हैं। और ऐसी खबरें या विडियो बड़ी अफवाहों को जन्म देते हैं जिनसे कई बार माहौल खराब हो जाता है।

फेक न्यूज के खिलाफ गांव कनेक्शन और फेसबुक की साझा पहल

देश के ग्रामीण क्षेत्रों की सबसे ज्यादा कवरेज करने वाले रूरल मीडिया प्लेटफॉर्म गांव कनेक्शन और फेसबुक ने फेक न्यूज के खिलाफ 'मोबाइल चौपाल' की शुरुआत उत्तर प्रदेश से शुरू की है। इसमें शहर से लेकर सुदूर अंचल के गांवों तक लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाया जा रहा है। इसमें एक सचल प्रचार वाहन भी शामिल है जिसे 'गांव रथ' का नाम दिया गया है।


कैरियर गर्ल्स कॉलेज पहुचा गांव रथ

जागरूकता कार्यक्रम के तहत गांव कनेक्शन मोबाइल चौपाल का गांव रथ 6 जुलाई को विकास नगर, लखनऊ स्थित कैरियर गर्ल्स कॉलेज पहुँचा। कार्यक्रम के दौरान गांव कनेक्शन के शो "ज्ञानी चाचा और भतीजा" के जरिए दीपांशु और दिवेंद्र सिंह ने छात्राओं को फेक न्यूज़ को पहचानने के तरीके बताए साथ ही इंटरनेट सिक्योरिटी के गुर भी सिखाए।

यहां गांव रथ के साथ चल रहे जादूगर सलमान ने जादू के माध्यम से छात्राओं को फेसबुक , व्हट्सऐप औऱ दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के सकारात्मक उपयोग की जानकारी दी। जादू के दौरान जादूगर ने एक छात्रा से उसके फेसबुक का पासवर्ड पूछा जिस पर छात्रा ने अपना पासवर्ड एक कागज पर लिखकर दे दिया। इसके बाद जादूगर ने बच्चों को पासवर्ड शेयर करने के दुष्परिणाम बताए साथ ही छात्राओं से वादा कराया कि वे कभी अपने पासवर्ड किसी और से शेयर नहीं करेंगे।





जादू के जरिए जानकारी को सबने सराहा

कॉलेज की प्रिंसपल मधु नारायण ने कहा, "ये वाकई रोचक औऱ उपयोगी कार्यक्रम है अगर ऐसे मनोरंजक तरीके से बच्चों को जानकारी दी जाए तो उन्हें लम्बे समय तक सबक याद रहेगा। चूंकि सोशल मीडिया का सबसे ज्यादा प्रयोग किशोर और युवा कर रहे हैँ इसलिए ये जानकारी उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

बताया फेक न्यूज और सच्ची खबर में अंतर

गांव रथ के अगले पड़ाव रामेश्वरम इंटरनेशनल अकेडमी में जागरुकता कार्यक्रम के दौरान काफी छात्रों ने बताया कि वे कई बार फेक न्यूज़ और हेट न्यूज़ का शिकार हो जाते हैं। इसके बाद कार्यक्रम में ज्ञानी चाचा ने छात्रों को फेक न्यूज़ और सही न्यूज़ में अंतर करने के तरीके सिखाए। रामेश्वरम इंटरनेशनल अकेडमी के प्रिंसिपल संजय कुमार ने कार्यक्रम देखने के बाद कहा कि बच्चे क्या बड़ों तक को अभी सोशल मीडिया के बारे में पूरी तरह से जानकारी नहीं है। इस कार्यक्रम के माध्यम से हमें व छात्रों को फेसबुक पर कम्युनिटी ग्रुप और उसके सकारत्मक प्रयोग की जानकारी मिली है। गांव कनेक्शन की अनोखी पहल मोबाइल चौपाल बहुत अच्छा प्रयास है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top