स्वास्थ्य शिविर लगाकर ग्रामीणों की कराई जांच, साफ-सफाई के लिए किया जागरूक

गाँव कनेक्शन फाउंडेशन और स्वास्थ्य विभाग ने संयुक्त रूप से बुखार प्रभावित गाँव में लगाया स्वास्थ्य शिविर

स्वास्थ्य शिविर लगाकर ग्रामीणों की कराई जांच, साफ-सफाई के लिए किया जागरूक

सीतापुर। संक्रामक बुखार से सीतापुर में बीते दिनों 25 लोगों की मौत होने और करीब 2500 लोगों के बुखार से पीड़ित होने पर गाँव कनेक्शन फाउंडेशन और स्वास्थ्य विभाग ने संयुक्त रूप से जनपद के गोंदलामऊ ब्लॉक के सैदापुर गाँव में 03 सितंबर को नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया।

इस स्वास्थ्य शिविर में करीब 100 मरीजों की मुफ्त में जांच करने के साथ ही उन्हें नि:शुल्क दवाएं दी गई। साथ ही उन्हें साफ-सफाई के बारे में जागरूक किया गया। गोंदलामऊ ब्लॉक के आधा दर्जन गाँवों में संक्रामक बुखार और मच्छर जनित बीमारियों का प्रकोप फैला हुआ है। गाँव में फैली गंदगी और ग्रामीणों की अज्ञानता से बीमारी ने इतना विकराल रूप ले लिया है।

ये भी पढ़ें: ग्रामीण इलाकों में दंत चिकित्सा व्यवसाय को बढ़ावा दे रही सरकार


गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ग्रामीण क्षेत्र में समय-समय पर सहायता कार्यक्रम आयोजित करता रहता है। हाल में सीतापुर के गोंदलामऊ ब्लॉक के कुछ गाँवों में संक्रामक बुखार की खबर को गाँव कनेक्शन ने प्रमुखता से प्रकाशित भी किया। ग्रामीणों की समस्या को देखते गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ने सैदापुर गाँव में स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया।

स्वास्थ्य शिविर में जांच कराने पहुंची माधुरी देवी (40 वर्ष) को कई दिनों से कंपकंपी के साथ बुखार आ रहा था। खून जांच करने पर उनमें मलेरिया की पुष्टि हुई। डॉक्टर ने उन्हें दवा देने के साथ-साथ आराम करने की सलाह दी। उन्हें यह भी बताया गया कि सफाई ही बीमारी से लड़ने का हथियार होता है। बीमारियों के संक्रमण से बचने का सबसे अच्छा तरीका सफाई है।

ये भी पढ़ें: ऐसा क्या है सहजन में जो इसे बनाता है ख़ास

इसी गाँव के रहने वाले सोने लाल मौर्य (25 वर्ष) ने बताया, "पिछले एक माह से हमारे गाँव में बुखार फैला हुआ है। कोई ऐसा घर नहीं है जहां एक दो लोग बुखार से पीड़ित न हो। मगर शिविर में हमारे गाँव में गोंदलामऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टरों ने लोगों की जांच की और उन्हें मुफ्त में दवाएं दी। पानी को गर्म करके पीने और सादा भोजन करने की बात बताई।"


स्वास्थ्य शिविर में पहुंची गुड़िया देवी (35 वर्ष) को बुखार के साथ-साथ सिर में तेज दर्द था। जांच में उनका रक्तचाप काफी अधिक पाया गया। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए गाँव कनेक्शन ने आकस्मिक चिकित्सा सेवा नंबर 108 पर एंबुलेंस बुलाकर उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गोंदलामऊ भेजा गया।

गाँव में फैली बीमारी का जायजा लेने पहुंचे संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य, लखनऊ के डॉ. बीपी सिंह ने स्वास्थ्य शिविर में ग्रामीणों को स्वच्छता का पाठ पढ़ाया। उन्होंने गाँव में फैली गंदगी पर नाराजगी जाहिर की।

उन्होंने कहा, "इस समय में जो बीमारियां फैली हैं वह गंदगी और मच्छरों की वजह से हैं। लोगों को खुद चाहिए कि वे अपने आस-पास सफाई रखें। स्वच्छ और ताजा पानी पीएं। दिन और रात में मच्छरदानी का प्रयोग करें। बीमार होने पर तुरंत सरकारी अस्पताल जाकर जांच कराएं।"


स्वास्थ्य शिविर की तारिफ करते हुए उन्होंने कहा, "गाँव कनेक्शन फाउंडेशन का यह प्रयास काफी सराहनीय है। इस तरह के मेडिकल कैंप समय-समय पर ग्रामीण क्षेत्रों में होते रहने चाहिए, जिससे लोग बीमारियों के प्रति सचेत रह सके।"

इस मौके पर गोंदलामऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी धीरज मिश्रा और बीडीओ प्रवीणा शुक्ला ने भी भी सहयोग दिया।

शिविर में जिला मलेरिया अधिकारी अनिल कुमार मिश्रा ने ग्रामीणों को डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए जागरूक किया। उन्होंने कहा, "यह मौसम संक्रामक बीमारियों के फैलने की काफी अनुकूल होता है। एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बीमारी बहुत तेजी से फैलती है। जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग इन बीमारियों के रोकथाम के लिए निरंतर प्रयासरत हैं, लेकिन लोगों को भी जागरूक होने की जरूरत है। गाँव में जहां-जहां जलभराव हो वहां डीजल की कुछ बूंद डाल दें और झोलाछाप डॉक्टरों के चक्कर में न पड़ें।"

ये भी पढ़ें: यूपी: 300 की आबादी वाले गांव में 50 लोगों को पथरी, इलाज के लिए अपना रहे जानलेवा तरीके


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top