गाँव कनेक्शन को पांचवीं बार मिला लाडली मीडिया अवार्ड

गाँव कनेेक्शन की संवाददाता नीतू सिंह को लााडली मीडिया अवार्ड से सम्मानित किया गया है...

गाँव कनेक्शन को पांचवीं बार मिला लाडली मीडिया अवार्ड

लखनऊ। गाँव कनेक्शन की संवाददाता नीतू सिंह को लाडली मीडिया अवार्ड से सम्मानित किया गया। नीतू सिंह लगातार महिला मुद्दों पर लिखती हैं। ये उन मुद्दों के बारे में लिखती हैं जिनके बारे में कोई बात नहीं करना चाहता। ये ग्रामीण भारत के सुदूर गाँव की उन महिलाओं से मिलती हैं जो देश की लाखों महिलाओं के लिए उदाहरण हैं।

गाँव कनेक्शन पिछले पांच वर्षोंं से प्रिंट, डिजिटल माध्यमों के जरिए कई ऐसे ग्रामीण मुद्दाोंं पर लिखता रहता है, जिससे मेन स्ट्रीम मीडिया अभी भी कोसोंं दूर हैं। नीतू सिंह महिला, किशोरियों के मुद्दों पर लिखती हैं। लैंगिक समानता के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था पापुलेशन फर्स्ट के द्वारा मार्च 2007 से लाडली मीडिया अवार्ड दिया जा रहा है। गाँव कनेक्शन को लगातार पांचवीं बार लाडली मीडिया अवार्ड से सम्मानित किया है। इससे पहले गाँव कनेक्शन के प्रधान संपादक शिवबालक मिसरा को भी दो बार इस अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। इसके बाद लगातार श्रृंखला पांडेय व देवांशु मणि तिवारी को भी लाडली मीडिया अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

पॉपुलेशन फर्स्ट संस्था की ओर से आयोजित नौवें लाडली मीडिया ऐंड ऐडवरटाइजिंग अवार्ड्स फॉर जेंडर सेंसिटिविटी (रीजनल) दिल्ली में 14 सितम्बर 2017 में 82 मीडियाकर्मियों को देश भर में 13 भारतीय भाषाओं में लैंगिक संवेदनशीलता पर कवरेज के लिए सम्मानित किया गया। ये सम्मान जानेमाने पत्रकार और मैग्सेसे पुरस्कार विजेता पी साईनाथ ने दिए। इस वर्ष पूरे भारत से 13 भाषाओँ में 1500 प्रविष्टियां प्राप्त हुई थी जिसका मूल्यांकन 60 ज्यूरी सदस्यों द्वारा तीन महीने में किया गया



इस मौके पर पॉपुलेशन फर्स्ट संस्था की निर्देशक, डॉ. एएल शारदा ने कहा, "लाडली मीडिया पुरस्कार साबित करते हैं कि सबसे खराब परिस्थितियों और उन्मादी हालात में भी आशा बाकी है। यह आशा इसलिए हैं क्योंकि ऐसे बहुत से लोग हैं जो पत्रकारिता में अपने पेशे के प्रति ईमानदार हैं, वे लैंगिक असमानता, भेदभाव और हिंसा के प्रति संवेदनशील हैं, उनके मन में दया है, वे इन मुद्दों पर अहम सवाल उठाते हैं और हमारे नेताओं समेत हम सभी को आईना दिखाते हैं। ये लोग दूसरे महत्वाकांक्षी पत्रकारों और मीडियाकर्मियों के लिए आदर्श हैं। हम गर्व के साथ इनका सम्मान करते हैं।"

गाँव कनेक्शन रामनाथ गोयनका पुरस्कार से भी है सम्मानित

भारत में सबसे लोकप्रिय ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन को देश के सबसे बड़े पत्रकारिता सम्मान रामनाथ गोयनका पुरस्कार 2012 से नवाजा गया। अखबार के संस्थापक नीलेश मिसरा और एसोसिएट एडिटर मनीष मिश्रा को यह सम्मान अनकवरिंग इंडिया इनविजिबल की श्रेणी में उत्कृष्ट रिपोर्टिंग के लिए दिया गया। इस सीरीज में नीलेश मिसरा की तीन लड़कियां, मनीष मिश्रा की वर्दी पहनती हूं तो ताकत आ जाती है' शीर्षक से छपी खबरें शामिल थीं। नई दिल्ली में 9 सितम्बर 2014 को भारत के सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित तत्कालीन लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने किया था।


Share it
Top