24 घंटे बीतने के बाद भी गौरी लंकेश के हत्यारों का कोई सुराग नहीं, एसआईटी टीम गठित

24 घंटे बीतने के बाद भी गौरी लंकेश के हत्यारों का कोई सुराग नहीं, एसआईटी टीम गठितगौरी लंकेश।

नई दिल्ली। पत्रकार और 'लंकेश पत्रके' क्री संपादक गौरी लंकेश की हत्या को लेकर 24 घंटे से ज्यादा का समय हो चुका है बावजुद इसके अभी तक हत्यारों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है। कर्नाटक सरकार ने जांच के लिए एसआईटी टीम का गठन किया है।

कांग्रेस ने भाजपा को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश की वहीं भाजपा ने बगैर सबूत के आरोप लगाने के लिए कांग्रेस पर हमला बोल दिया। लंकेश की हत्या की पूरे देश में निंदा हो रही है।

सीसीटीवी फुटेज से नहीं हो सकी पहचान

हत्या के सीसीटीवी फुटेज मिले हैं। इसमें बाइक सवार तीन हमलावरों के बेंगलुरु के राज राजेश्वरी नगर स्थित गौरी लंकेश के घर पहुंचने और हेलमेट पहने एक हमलावर उन पर गोलियां दागता दिखाई दे रहा है। हमलावर ने सात गोलियां दागीं, तीन गौरी को लगीं और मौके पर ही उन्होंने दम तोड़ दिया। गौरी हिंदुत्व विरोधी विचारधारा रखती थीं और नक्सलियों को मुख्यधारा में लाने के काम में जुटी थी।

गौरी हत्याकांड से कर्नाटक के चुनावी सियासत में मची खलबली

गौरी लंकेश की हत्या से चुनावी राज्य कर्नाटक में सियासी उबाल आ गया है। राज्य में इसी वर्ष चुनाव होने है। मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने मौके की नजाकत देखते हुए आईजी स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में एसआईटी बनाने का आदेश दिया है। उन्होंने गौरी के परिजन की सीबीआई जांच की मांग पर भी सहमति जताई है।

सिद्धारमैया ने कहा कि गौरी उनसे कई बार मिली थी, लेकिन कभी जान के खतरे की आशंका नहीं जताई। उन्होंने पुलिस को स्वतंत्र विचारकों व वाम आंदोलन से जुड़े लोगों की पहचान कर उन्हें सुरक्षा देने के निर्देश दिए हैं। हत्या को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कर्नाटक सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

हत्या के विरोध में कई शहरों में प्रदर्शन

हत्या के विरोध में बेंगलुरु, दिल्ली से लेकर देश के कई शहरों में पत्रकार संगठनों, प्रेस क्लब व सामाजिक संगठनों ने प्रदर्शन किए। इसे असहमति के स्वरों को कुचलने का प्रयास बताया गया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top