लंबी बीमारी के बाद पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का निधन

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
लंबी बीमारी के बाद पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का निधन

नई दिल्ली। अटल बिहारी सरकार में रक्षा मंत्री रहे जॉर्ज फर्नांडिस का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 88 साल के थे और लंबे समय से अल्जाइमर नामक बीमारी से पीड़ित थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फर्नांडिस के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, 'जॉर्ज साहब भारत के प्रमुख नेताओं में से एक थे। वह बेबाक और निर्भिक थे और उन्होंने देश के विकास में अपना अमूल्य योगदान दिया। वह गरीबों के आवाज थे। उनके निधन से मैं काफी दुखी हूं।'


कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी फर्नांडिस के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए संवेदना व्यक्त की। गांधी ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा, ''पूर्व सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस जी के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। दुख की इस घड़ी में उनके परिवार और मित्रों के प्रति मेरी संवेदना है।''

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, "जॉर्ज फर्नांडिस मजदूर संघ के बहुत ही अच्छे नेता थे। मैं उनके निधन से बहुत दुखी हूं। मैं उन्हें दशकों से जानती थी। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदना है।" झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने भी दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि "मैं उनके निधन से बहुत दुखी हूं। वह एक कर्मठ, ईमानदार, जुझारू और जन नेता थे। उनकी कमी हर किसी को खलेगी। मैं उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं।"



आपको बता दें कि वह रक्षा मंत्री के अलावा अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में उद्योग मंत्री और संचार मंत्री भी थे। इसके पहले वह वीपी सिंह की सरकार में रेल मंत्री थे। उनके रक्षा मंत्री होते हुए ही 1998 में पोखरण का प्रसिद्ध परमाणु परीक्षण हुआ था। इसके बाद 1999 में उनके कार्यकाल में ही कारगिल युद्ध हुआ। जार्ज फर्नांडिस का जन्म 3 जून 1930 को कर्नाटक के मंगलौर में हुआ था। तब मंगलौर ब्रिटिश इंडिया के मद्रास प्रेसीडेंसी का हिस्सा था। आजादी के बाद के वह कुछ एक नेताओं में थे जो दक्षिण भारत में पैदा हुए लेकिन उत्तर भारत की राजनीति को अपना कर्मभूमि बनाया। खासकर बिहार से उनका खासा लगाव रहा।

1967 में पहली बार मुंबई (तत्कालीन बॉम्बे) से लोकसभा में चुने जाने के बाद वह लगातार बिहार से ही चुने गए। 1977 में वह बिहार के मुजफ्फरपुर से सांसद चुने गए। इसके बाद वह बिहार के ही हो कर रह गए। 2009 में उन्हें बिहार से ही राज्यसभा के लिए चुना गया। जॉर्ज फर्नांडिस समाजवादी विचारों से प्रभावित नेता थे और आजादी के बाद के मजदूर आंदोलनों में उनका प्रमुख योगदान था। आपातकाल के समय अन्य नेताओं की तरह उनकी भी गिरफ्तारी हुई। वह प्रसिद्ध समाजवादी नेता राम मनोहर लोहिया के प्रबल अनुयायी थे।

    

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.