वायु प्रदूषण फैलाने वालों की अब खैर नहीं, सरकार करेगी आपराधिक कार्यवाही

सरकार ने एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषित हवा की ख़राब गुणवत्ता को ठीक करने के लिए अब सख़्त कदम उठाए हैं। सरकार नें सीपीसीबी (केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड) के सुझाव पर वायु प्रदूषण मानकों का उल्लंघन करने वालों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामला दर्ज कर कार्यवाही करने का फैसला लिया है।

वायु प्रदूषण फैलाने वालों की अब खैर नहीं, सरकार करेगी आपराधिक कार्यवाही

फ़राज़ हुसैन

गाँव कनेक्शन

दिल्ली। दिल्ली में लगातार वायु प्रदूषण फैलता जा रहा है। सरकार भी दिल्ली में फैल रहे प्रदूषण को लेकर चिंतित है। सरकार ने एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषित हवा की ख़राब गुणवत्ता को ठीक करने के लिए अब सख़्त कदम उठाए हैं। सरकार नें सीपीसीबी (केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड) के सुझाव पर वायु प्रदूषण मानकों का उल्लंघन करने वालों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामला दर्ज कर कार्रवाई करने का फैसला लिया है।

हरियाणा-पंजाब में जलाई गई पुआल से मेरठ में छाई धुंध

साभार: इंटरनेट

हर्षवर्धन (पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री) ने शनिवार को एनसीआर क्षेत्र में वायु प्रदूषण की स्थिति को लेकर हुई समीक्षा बैठक के बाद बताया, "हवा की गुणवत्ता में अपेक्षित सुधार नहीं हुआ है जिससे केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के सुझाव पर वायु प्रदूषित करने पर या संबंधित मानकों का उल्लंघन करने पर सरकार ने उसके ख़िलाफ़ आपराधिक मामला दर्ज करने का आदेश दिया है।"

सीपीसीबी के अधिकारियों ने बैठक में यह भी बताया, "दिल्ली के अलावा एनसीआर के चार शहरों नोएडा, ग़ाज़ियाबाद, फ़रीदाबाद और गुरुग्राम में पिछले एक महीने में स्थिति को सुधारने के लिए उठाय गये कदम बेहतर साबित नही हो रहे हैं।" उन्होंने बताया, "इससे पहले सीपीसीबी के 41 निगरानी दल इन शहरों में निरीक्षण करते थे लेकिन अब यह संख्या बढ़ा कर 50 कर दी गई है। यह निगरानी दल सप्ताह में दो दिन के बजाय कम से कम पाँच दिन इन शहरों में निरीक्षण करेंगे।

स्मॉग के चलते अस्थमा और हार्ट के मरीजों को बढ़ने लगा खतरा

आशंका जताई जा रही है कि दिल्ली में रहने वालों को नवम्बर माह के शुरुआती 10 दिनों में सबसे ज़्यादा वायु प्रदूषण से जूझना पड़ सकता है। केंद्रीय पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के टास्क फोर्स ने ऐसे हालात पर नियंत्रण लगाने के मकसद से पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण अथॉरिटी (अधिकार) को कई सुझाव भी दिए हैं।

हालांकि दिल्ली दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल नहीं लेकिन अभी भी प्रदूषण को लेकर दिल्ली काफी चर्चे में बना रहता है। जेनेवा में विश्व स्वास्थ्य संगठन नें दुनिया के सबसे ज़्यादा प्रदूषित 15 शहरों की सूची शामिल की है जिसमें भारत के 14 शहर भी शामिल हैं। भारत का कानपुर शहर प्रदूषित शहरों की सूची में पहले नंबर पर हैं जबकि इस सूची में दिल्ली का स्थान छठा है। साल 2015 में दिल्ली का स्थान चौथा था।

डब्ल्यूएचओ ने वायु प्रदूषण को लेकर 100 देशों के चार हजार शहरों का अध्ययन किया है। इसमें जो आंकड़े निकल कर सामने आये हैं उसमें दिल्ली में 2010 और 2014 के बीच हवा की स्थित में मामूली सुधार हुआ था लेकिन 2015 में यह स्थित बिगड़ गई और दिल्ली चौथे स्थान पर पहुंच गया था।

पटाखे आपकी सेहत के लिए हानिकारक, इन बड़ी बीमारियों का बन सकते हैं कारण

साभार: इंटरनेट

भारत के 14 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में भारत के जिन 14 शहरों का नाम है उनकी क्रमानुसार सूची को नीचे दर्शाया गया है।

1. कानपूर

2. फरीदाबाद

3. वाराणसी

4. गया

5. पटना

6. दिल्ली

7. लखनऊ

8. आगरा

9. मुजफ्फरपुर

10. श्रीनगर

11. गुड़गांव

12. जयपुर

13. पटियाला

14. जोधपुर

Share it
Top