कर्ज में डूबे किसान की जेल में मौत

चेक बाउंस के मामले में कर्ज में डूबे एक किसान, रणवीर सिंह को करीब 15 दिन पहले जेल भेज दिया गया था जिसके बाद वह कारावास में ही बेहोश होकर गिर पड़ा और उसकी मौत हो गई।

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
कर्ज में डूबे किसान की जेल में मौत

अधिकारियों द्वारा बुधवार को दी गयी जानकारी के मुताबिक़, भिवानी (हरियाणा) में चेक बाउंस के मामले में कर्ज में डूबे एक किसान, रणवीर सिंह को करीब 15 दिन पहले जेल भेज दिया गया था जिसके बाद वह कारावास में ही बेहोश होकर गिर पड़ा और उसकी मौत हो गई।

पुलिस ने बताया, "64 वर्षीय रणवीर सिंह ने सोमवार को सीने में बेचैनी की शिकायत की थी। इसके बाद वह गिर पड़े। उन्हें यहां एक अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई। शुरू में उनके परिवार ने अंतिम संस्कार के लिए शव लेने या मजस्ट्रिेटी जांच में शामिल होने से इनकार किया।"

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी का विपक्ष कोई पार्टी नहीं, अब किसान हैं?

"जिला प्रशासन ने कर्ज माफी और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने समेत कुछ मांगों को मान लिया तो उनके रश्तिेदार पोस्टमार्टम कराने और अंतिम संस्कार करने के लिए राजी हुए। पुलिस अधीक्षक गंगा राम पुनिया ने कहा," (मृतक) के रश्तिेदार अपराध दंड संहिता प्रक्रिया के तहत जांच के लिए सहमत हो गए हैं। बुधवार को शव का पोस्टमार्टम किया गया।"

उपायुक्त अंशाज सिंह ने बताया कि चेक बाउंस होने के मामले में दोषी साबित होने के बाद 21 सितंबर को रणवीर सिंह को जेल भेजा गया था। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट कहती है कि उनकी मौत संभवत: दिल का दौरा पड़ने की वजह से हुई है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन मृतक किसान का कर्ज माफ करने के लिए राज्य सरकार को सिफारिश भेजेगा।

सरकार के ही आखिरी मौजूद आंकड़ों (नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो या एनसीआरबी की रिपोर्ट) के मुताबिक देश में औसतन 34 किसान और खेतिहर मजदूर रोजाना आत्महत्या करते हैं। एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2015 में 8,007 किसान और 4,595 खेतिहर मजदूर, जबकि 2014 में 5,650 किसान और 6,710 मजदूरों ने जान दी। वर्ष 2016 और 17 के आंकड़े प्रकाशित नहीं किए गए हैं। पिछले वर्ष 2017 में 2 मई को सुप्रीम कोर्ट को सरकार ने बताया था कि वर्ष 2013 से औसतन हर साल 12,000 किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की किसान आत्महत्या और आंदोलनों पर चुप्पी से उठे सवाल


    

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.