Top

भारत सरकार का एक फैसला जो आज भारतीय अर्थव्यस्था की रीढ़ की हड्डी माना जाता है

देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम का आज स्थापना दिवस है पढ़िए कैसा रहा 64 वर्षों का ये सफर ..

Ashwani DwivediAshwani Dwivedi   1 Sep 2020 11:16 AM GMT

भारत सरकार का एक फैसला जो आज भारतीय अर्थव्यस्था की रीढ़ की हड्डी माना जाता है

"जिन्दगी के साथ भी, जिन्दगी के बाद भी" के दमदार टैगलाइन के साथ आज दुनिया की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम का चौसठवा स्थापना दिवस हैI आजादी के नौ वर्षों बाद भारत सरकार द्वारा लिया गया एक फैसला आज भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी माना जाता हैI पब्लिक सेक्टर कंपनी एलआईसी ऑफ इंडिया की स्थापना एक सितम्बर सन 1956 में 245 बीमा कंपनियों को मिलाकर की गयी थी। पांच करोड़ की पूंजी के साथ शुरू की गयी एलआईसी के पास स्थापना के समय संपत्तियों की तुलना में दायित्व (देनदारियां) अधिक थेI

पिछले चौसठ वर्षों से एलआईसी अपने सूत्रवाक्य "योगक्षेम वहाम्यम" (आपकी कुशलता हमारी जिम्मेदारी है) की नीति के साथ बराबर कार्य कर रही हैI इसे भरोसे का दूसरा नाम भी कहा जाता हैI स्थापना के बाद लम्बे समय तक बीमा बाजार में एलआईसी का एकाधिकार रहा है, लेकिन बाद में सरकार द्वारा अनुमति देने के बाद आज वर्तमान समय में बाजार में एलआईसी के साथ साथ 28 अन्य बीमा संस्थाएं टर्म बीमा, स्वास्थ्य बीमा और जीवन बीमा का व्यवसाय कर रही हैं I कठिन बाजार प्रतिस्पर्धा के बीच आज भी एलआईसी बीमा बाजार में लगभग 70 फीसदी की हिस्सेदारी के साथ बीमा क्षेत्र के सबसे बड़ी कंपनी हैI और अन्य बीमा कम्पनियों की तुलना में भारतीय जीवन बीमा निगम क्लेम भुगतान करने में अग्रणी हैI


कुशल प्रबंधन के बल पर एलआईसी ने सन 1970 तक अपना बीमा व्यवसाय 1000 करोड़ रूपये तक पंहुचा दिया था और अगले दो दशकों में एलआईसी का बीमा व्यवसाय 7000 करोड़ पार गयाI जिसके बाद एलआईसी ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और वर्तमान में देश के सबसे बड़े फंड के साथ एलआईसी बीमा बाजार में कार्य कर रही हैI लाभांश देने के साथ समय–समय पर भारतीय जीवन बीमा भारत सरकार के काम आती रही है देश के लगभग प्रत्येक सरकारी उपक्रम में एलआईसी का निवेश और हिस्सेदारी हैI

वर्तमान समय में भारतीय जीवन बीमा निगम देश भर में 113 मंडल कार्यालय, 2048 शाखा कार्यालय और 1526 सेटलाइट कार्यालय के माध्यम से देश भर में 12 लाख 8 हजार आठ सौ छब्बीस अभिकर्ताओ की एक बड़ी विक्रय वाहिनी के माध्यम से देश भर में 28.92 करोड़ लोगों को बीमा सेवाए प्रदान कर रही हैI एक लाख से अधिक कर्मचारियों के साथ बीमा बाजार में 70 फीसदी हिस्सेदारी और 31 लाख करोड़ के फंड के साथ कार्य कर रही हैI

ये भी पढ़ें: एलआईसी ने लॉकडाउन में अपने बीमा एजेंट्स को दी राहत, एडवांस में दिए 50-50 हज़ार रुपए

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.