आतंकियों की नजर अब पश्चिम यूपी के संवेदनशील जिलों पर, भड़काऊ वीडियो जारी

आतंकियों की नजर अब पश्चिम यूपी के संवेदनशील जिलों पर, भड़काऊ  वीडियो जारीआतंकी। प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। कश्मीर में सक्रिय आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के पूर्व कमांडर जाकिर मूसा का यूपी एटीएस ने एक ऑडियो टेप जारी किया है। इसमें मूसा भारत के मुसलमानों को धिक्कार रहा है और उन्हें जिहाद के लिए उकसाता नजर आ रहा है। उसके इस ऑडियो में बीते दिनों यूपी के बिजनौर की एक घटना का भी जिक्र है, जिसमें चलती ट्रेन में महिला ने पुलिसकर्मी पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था।

हालांकि जाकिर मूसा मौजूदा समय में हिजबुल का साथ छोड़कर अल-कायदा में शामिल हो गया है, जिसे सबसे खतरनाक आतंकी संगठन माना जाता है। वहीं मूसा के इस ऑडियो टेप में पश्चिम यूपी के बिजनौर का जिक्र सुनकर खुफिया एजेंसियों के कान खड़े हो गये हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

यूपी एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड) ने हिजबुल के पूर्व कमांडर जाकिर मूसा का ऑडियो इंटरसेप्ट किया है। इसमें मूसा केवल कश्मीर तक ही जिहाद छेड़ने की बात नहीं कर रहा बल्कि वह भारत के पूरे मुसलमानों को धिक्कारते हुए युद्ध करने की बात कह रहा है। मूसा ने अपने ऑडियो में कहा कि, यह जंग इस्लाम और काफिरों के बीच है, जिसे हर हाल में जितना है। वहीं मूसा के इस ऑडियो टेप में बिजनौर की उस घटना का भी जिक्र है, जिसमें एक महिला ने चलती ट्रेन में दूसरे समुदाय के शख्स पर रेप का आरोप लगाया था, पर पुलिस की जांच-पड़ताल में पीड़ित महिला अपने बयान से पलट गई थी और मेडिकल जांच में भी रेप की पुष्टी नहीं हुई थी। फिर भी इस घटना की सूचना बिजनौर शहर में फैलने पर दो समुदायों में तनाव का माहौल उत्पन्न हो गया था, जिस पर वक्त रहने प्रशासन ने काबू पा लिया था।

ये भी पढ़ें : लेफ्टिनेंट की हत्या में शक की सूई आतंकी संगठन हिजबुल की ओर

हिजबुल के पूर्व कमांडर के इस घटना को लेकर भारत के सभी मुसलमानों को धिक्कारने का ऑडियो सुन यूपी सहित देश की खुफिया एजेंसियां सक्रिय हो गई हैं। खुफिया एजेंसियों की सूत्रों की मानें तो पश्चिम यूपी में दो समुदायों के बीच बढ़ते तनाव के पीछे हिजबुल के लोगों का हाथ होने की जांच चल रही है, जो बगैर कोई आतंकी घटना किए साम्प्रदायिक माहौल खराब कर कश्मीर की तर्ज पर हिंसा फैलाने का काम कर रहे हैं। आतंकी संगठन ने अपने इस काम को अंजाम देने के लिए यूपी सहित देश भर में सोशल मीडिया पर अफवाह फैला कर हिंसा फैलाने वालों की भर्ती कर रहा है, जो केवल साम्प्रदायिक माहौल खराब कर खून-खराबे की घटना को अंजाम दे सके।

उधर, यूपी एटीएस ने इस ऑडियो टेप को जम्मू-कश्मीर पुलिस को भेजा था, जहां उन्होंने अपनी जांच में माना है कि जो ऑडियो क्लिप जारी हुआ है उसमें आवाज जाकिर मूसा की है। इस पुष्टी के बाद एनआईए भी सक्रिय हो गई है और यूपी एटीएस के साथ मिलकर पूरे माड्यूल की जांच में जुट गई है। वहीं यूपी एसटीएस के आईजी असीम अरुण ने बताया कि, इस ऑडियो के आधार पर हमारी एजेंसी और अधिक सक्रिय हो गई है। साथ ही पश्चिम यूपी पर खास नजर है, जिससे कोई भी आतंकी संगठन अपने गलत मनसूबों में कामयाब न हो सके। वहीं दूसरी ओर अगर बात करे पश्चिम यूपी के बिजनौर सहित अन्य कुछ जिलों की तो वह काफी समय से साम्प्रदायिक मामले को लेकर बहुत संवेदनशील है, इसका फायदा आतंकी संगठन उठाकर वहां का माहौल बिगाड़ कर प्रदेश को स्थिर करने की साजिश है।

गौ सेवकों पर फूटा मूसा का गुस्सा

जाकिर मूसा ने अपने ऑडियो टेप में कहा है कि, देश में गौ सेवकों द्वारा मुस्लिमों को मारा जा रहा है, लेकिन तब भी भारत के मुसलमान ऐसे लोगों के खिलाफ खड़े नहीं हो रहे हैं, जोकि काफी शर्म की बात है। भारतीय मुसलमानों के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर करते हुए उसने आगे कहा कि, हमारी मुस्लिम बहनों के साथ अत्याचार हो रहा है, लेकिन भारत के मुसलमान तब भी शांति की बात कर रहे हैं जो कि केवल एक बैगरत कौम ही कर सकती है।

मूसा ने भारतीय मुसलमानों को चेतावनी देते हुए कहा कि, उनके पास वक्त है कि वो एक साथ खड़े होकर के जिहाद में शामिल हो और इन फिरकापरस्त लोगों के खिलाफ जंग छेड़े, वर्ना बहुत देर हो जाएगी। गौरक्षकों को उनकी औकात बताने का समय आ गया है। इस वक्त पूरा विश्व केवल एक धर्म यानि कि इस्लाम के खिलाफ है, जो बताता है कि यह कितना मजबूत धर्म है।

ट्रेन की झूठी घटना को बनाया अफवाह का बाजार

बीते दिनों बिजनौर में एक महिला ने ट्रेन के भीतर जीआरपी जवान पर रेप का आरोप लगाया था, जो सोशल मीडिया और अखबारों की सुर्खिया बनी थी। वहीं कुछ लोग इस घटना को दो समुदाय से जोड़ कर देखने लगे थे। इस बात का ही फायदा उठाकर हिजबुल के पूर्व कमांडर जाकिर मूसा ने मुश्लिम लोगों को बरगलाने के लिए भड़काऊ ऑडियो टेप जारी किया, जिससे दो समुदायों के बीच आपसी सोहार्द बिगाड़ा जा सके। लेकिन उसकी इस मंशा पर ब्रेक उस वक्त लग गया, जब पूरे मामले की जांच कर रही जीआरपी को कथित रेप पीड़िता ने ऐसी कोयी भी घटना अपने साथ होने से ही इंकार दिया। यही नहीं उसने स्पष्ट रूप से पुलिस के सामने अपना बयान देने से भी मना कर दिया।

ये भी पढ़ें : हिजबुल आतंकी ने किया समर्पण

वहीं दूसरी ओर बिजनौर एसपी की मानें तो महिला के मेडिकल जांच में भी रेप की पुष्टि नहीं हुई थी, जबकि इससे बिल्कुल उलट मूसा जैसे लोगों गलत मामले को तूल देकर एक समुदाय को दूसरे समुदाय के खिलाफ बरगला कर हिसां फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। हालांकि उनकी इस ऑडियो को खुफिया एजेंसियों वक्त रहते पकड़ लिया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top