लेफ्टिनेंट की हत्या में शक की सूई आतंकी संगठन हिजबुल की ओर

लेफ्टिनेंट की हत्या में शक की सूई आतंकी संगठन हिजबुल की ओरआर्मी आफिसर लेफ्टिनेंट उमर फयाज। फाइल फोटो

रिपोर्ट- आरपी तिवारी

कश्मीर। घाटी में युवा आर्मी आफिसर लेफ्टिनेंट उमर फयाज की हत्या में शक की सूई अब आतंकी संगठन हिजबुल की ओर जाकर रूक गई है। पुलिस ने लेफ्टिनेंट की हत्या में शोपियां में सक्रिय हिजबुल के माड्यूल का हाथ माना है।

इस मामले में जानकारी देते हुए कश्मीर के आईजी एसजेएम गिलानी ने कहा कि पुलिस ने टीम गठित करके मामले की जांच शुरू कर दी है। प्रारंभिक जांच में शोपियां जिले में सक्रिय हिजबुल मुजाहिदीन के माड्यूल का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है। उन्होंने कहा कि पुलिस को घटनास्थल से दो इंसास राइफल के कार्टेज मिले हैं। कुछ ही दिन दक्षिण कश्मीर में राइफल लूट की दो वारदातें हुई थी। पहली वारदात कुलगाम जिले में हुई थी जिसमें लश्कर के आतंकी शामिल थे, जबकि दूसरी वारदात शोपियां कोर्ट कांप्लेक्स में हुई थी, जिसमें हिजबुल का हाथ था।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

आईजी के मुताबित इन्हीं दोनों वारदातों में से लूटी गई राइफल का इस्तेमाल आतंकियों ने लेफ्टिनेंट की हत्या में किया है। वहीं उन्होंने लेफ्टिनेंट का गोली मारने से पहले टार्चर की बात को इंकार किया है। आईजी के मुताबिक लेफ्टिनेंट फैयाज के शरीर पर ऐसे कोई निशाना नहीं मिले हैं जिससे यह पता चले कि उन्हें टार्चर किया गया था। पुलिस अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही टार्चर के बारे में कुछ बता पाएगी।

ये भी पढ़ें: शोपियां में युवा कश्मीरी अफसर लेफ्टिनेंट उमर फयाज की हत्या कायरतापूर्ण कृत्य : अरुण जेटली

गौरतलब है कि बुधवार को आतंकियों ने दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिले में सेना के लेफ्टिनेंट फैयाज का अपहरण कर हत्या कर दी थी। फैयाज जम्मू के अखनूर में तैनात था। पांच महीने पहले ही उन्होंने सेना में एनडीए से कमीशन हासिल किया था। सूत्रों के मुताबिक लंबे समय से उन पर नजर बनाए हुए थे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top