सावधान : आखिर क्यों और कैसे कब्र या चिता बन जाती है आपकी कार ?

Ashutosh OjhaAshutosh Ojha   7 Oct 2017 5:05 PM GMT

सावधान : आखिर क्यों और कैसे कब्र या चिता बन जाती है आपकी कार ?आग में लगने पर ऐसे बरती सावधानी।

लखनऊ। बीते दिनों बाहरी दिल्ली में दिल दहला देने वाली एक घटना में दो मासूम बच्चों की कार में दम घुटने से मौत की खबर आई। अक्सर हमारे आस पास ऐसी कई ख़बरें ऐसी कई दुर्घटनाएं सामने आती रहती है, लेकिन अगर आप गौर करें तो इन घटनाओं में अपनों की लापरवाही सामने आती है।

आज हम आपको बतायेंगें कि आखिर कैसे आपकी कार आपकी नासमझी से आपकी दुश्मन बन जाती है। हम आपको बतायेंगें कि आखिर आपकी कार आपकी दुश्मन कैसे बन जाती है।

ये भी पढ़ें-IRCTC टिकट बुकिंग एजेंट बनकर कर सकते हैं अच्‍छी कमाई, ऐसे करें आवेदन

सगीर खान पिछले कई वर्षों से एक प्रतिष्ठित कंपनी में कार मैकेनिक का कार्य कर चुके है आज उनका लखनऊ में अपना कार सर्विस सेंटर है। उन्होंने हमें बताया कि पेट्रोल कार का इंजन कार्बन मोनोऑक्साइड और डीजल इंजन कार्बन डाइऑक्साइड प्रड्यूस करता है। लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि ये गैसें कार के केबिन में घुस जाएं। कार का एसी सिस्टम इंजन के इग्जॉस्ट से बिल्कुल अलग होता है और इग्जॉस्ट से गैस केबिन में नहीं घुस सकती जब तक कि सिस्टम के साथ कोई बड़ी छेड़छाड़ न की गई हो। लेकिन अगर गाड़ी बंद गैराज में खड़ी हो या फिर किसी ऐसी जगह हो जहां हवा का सर्कुलेशन न हो रहा हो तो कार के एसी के सिस्टम से केबिन में जहरीली गैस घुस सकती है।

ये भी पढ़ें-जीएसटी सलाहकार बन संवारे करियर, देश में है भारी मांग

  • कार के केबिन में एसी के माध्यम से या किसी और जगह से कोई जहरीली गैस घुस आई हो तो लोगों का दम घुट सकता है। ऐसे हादसे चलती कार में नहीं होते, सिर्फ खड़ी कार में होते हैं।
  • अगर कार का एसी चल रहा हो और सर्कुलेशन मोड पर हो तो जहरीली गैस लगातार बढ़ती रहती है।
  • गैस का असर एकदम नहीं होता लेकिन अगर कार में लोग सो रहे हों तो धीरे-धीरे वो गैस की चपेट में आकर बेहोश हो सकते हैं और उनकी मौत भी हो सकती है।
  • अगर आसपास कोई गैस का स्त्रोत है या कूड़ा पड़ा है तो फ्रेश एयर मोड पर एसी चलाने पर भी गैस केबिन में घुस सकती है।

इन बातों पर ध्यान दीजिये

  • बच्चों को कभी भी कार के अंदर अकेला छोड़कर न जाएं। भले ही कार बंद हो या इंजन ऑन हो।
  • अगर करना पड़े तो थोड़े शीशे खुले रखें, एसी को फ्रेश एयर मोड पर रखें।
  • कार को हमेशा खुली जगह पर ही खड़ी करें, बंद गैराज में एसी चलाकर बिल्कुल भी कार में न बैठें।
  • कार के एसी को थोड़ी-थोड़ी देर में फ्रेश एयर मोड पर भी चलाना चाहिए भले केबिन ठंडा होने में वक्त लगे।
  • अक्सर गर्मी से बचने के लिए लोग अपनी कार में एसी ऑन करके सो जाते हैं, ऐसा बिल्कुल न करें।
  • कार की रेग्युलर सर्विसिंग कराते रहें। खासतौर पर एसी का पूरा सिस्टम जरूर चेक करवाएं।

कार में आग लगने पर ये बरतें सावधानी।

  • ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top