तेलुगू उद्योग और तकनीक की भाषा है : राष्ट्रपति

तेलुगू उद्योग और तकनीक की भाषा है : राष्ट्रपतिराष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 

हैदराबाद (भाषा)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज कहा कि तेलुगू एक वैश्विक भाषा है, यह उद्योग और तकनीक, भारतीय सॉफ्ट पावर और विदेशों में बसे तेलुगू भाषी समुदाय की भाषा है। वह यहां विश्व तेलुगु सम्मेलन के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

राष्ट्रपति ने कहा, ''तेलुगू वैश्विक भाषा है। कई महाद्वीपों पर इसे सुना, पढ़ा और बोला जाता है। यह उद्योग और तकनीक की भाषा है, यह भारतीय सॉफ्ट पावर और विदेशों में बसे उस तेलुगू भाषी समुदाय की भाषा है जिसने अपने और अपने देश का नाम ऊंचा किया है।'' उन्होंने कहा, ''दक्षिण अफ्रीका से लेकर दक्षिण पूर्व एशिया तक तेलुगू समुदाय को विजेता के तौर पर पहचाना जाता है।'' उन्होंने कहा कि अमेरिका में तेलुगू भाषी लोगों को सरकारी कार्यालयों में चुना गया और वे प्रतिष्ठित उद्यमी, डॉक्टर तथा प्रौद्योगिकीविद् हैं।

ये भी पढ़ें - इंग्लैण्ड की सरकारी नौकरी छोड़ आदिवासियों का जीवन बदल रहा ये युवा

कोविंद ने कहा, ''यह गर्व का विषय है कि तकनीक के क्षेत्र की बड़ी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला तेलुगूभाषी हैं। वह एक श्रेष्ठ विरासत को प्रदर्शित करते हैं। वर्ष 1920 और 1930 के दशक में हार्वर्ड विश्वविद्यालय में काम करने वाले जीव रसायनज्ञ येल्लप्रगड सुब्बाराव भी इनमें से एक हैं।''

ये भी पढ़ें - अगर आपको है रोजगार की तलाश तो सरकार दे रही है मौका

राष्ट्रपति का पदभार संभालने के बाद पहली बार हैदराबाद आए कोविंद ने कहा कि तेलुगू देश की दूसरी सबसे ज्यादा बोले जाने वाली भाषा है। उन्होंने कहा कि तीन पूर्व राष्ट्रपति एस राधाकृष्णन, वी वी गिरी और नीलम संजीव रेड्डी भी तेलुगू भाषी थे। इस मौके मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा कि तेलुगू सम्मेलन हर साल दिसंबर में आयोजित किया जाएगा। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने 15 दिसंबर को पांच दिवसीय इस सम्मेलन का शुभारंभ किया था।

ये भी पढ़ें - ‘फार्मर फर्स्ट’ से बदल रही किसानों की जिंदगी, बकरी पालन के लिए किसानों को दिया जा रहा प्रशिक्षण

Share it
Top