सरकारी स्कूल में पढ़ती बेटी के साथ छत्तीसगढ़ के डीएम ने खाया मिड-डे मील, तस्वीर वायरल

सरकारी स्कूल में पढ़ती बेटी के साथ छत्तीसगढ़ के डीएम ने खाया मिड-डे मील, तस्वीर वायरलबेटी वेदिका शरण के साथ स्कूल में मिड-डे मील खाते बलरामपुर जिले के कलेक्टर अवनीश कुमार शरण

सिविल सर्विस डे : सलाम उन अधिकारियों को जिन्होंने लीक से हटकर काम किाय और दूसरों के लिए प्रेरणा बने.. मिलिए छत्तीसगढ़ के एक ऐसे ही अधिकारी से.. #CivilServicesDay

छत्तीसगढ‍़ में अपनी बेटी वेदिका शरण का दाखिला सरकरी स्कूल में कराकर मिसाल पेश करने वाले बलरामपुर जिले के कलेक्टर अवनीश कुमार शरण एक फिर चर्चा में आ गए हैं। उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की है, जिसमें वह अपनी बेटी के साथ सरकारी स्कूल में बैठकर मिड-डे मील खा रहे हैं और बच्ची को भी खिला रहे हैं। उनकी इस पहल की लोगों ने काफी तारीफ की है।

अवनीश की बेटी छत्तीसगढ़ के एक सरकारी स्कूल में पढ़ती है और दोपहर में स्कूल में बनने वाला मिड डे मील ही खाती है। एक दिन डीएम स्कूल पहुंचे तो अपनी बेटी के साथ ही खाना खाने लगे। बता दें कि अवनीश ने लगभग छह महीने पहले ही अपनी बेटी का दाखिला इस छोटे से शहर के एक सरकारी स्कूल में करवाया है। इससे पहले इनकी बेटी आंगनबाड़ी स्कूल में पढ़ चुकी है।

आईएएस ऑफिसर की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है। ट्विटर यूजर ने अवनीश के इस कदम की सराहना करते हुए लिखा कि ऐसे ही लोगों की वजह से देश चल रहा है और इंसानियत जिंदा है। एक यूजर ने लिखा कि जस दिन नेताओं के बच्चे सरकारी स्कूल में पढऩे जाएंगे उसी दिन से इन स्कूलों की हालत सुधर जाएगी।

गौरतलब है कि करीब दो वर्ष पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के अफसरों को आदेश दिया था कि वे सभी अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ाएं। सरकारी स्कूल में अफसरों के बच्चे पढ़ेंगे तो इन स्कूलों की हालत अपने आप बेहतर हो जाएगी। हालांकि वह आदेश भी ठंडे बस्ते में चला गया था और शायद ही किसी अधिकारी ने अपने बच्चे का ऐडमिशन सरकारी स्कूल में कराया हो। ऐसे समय में अवनीश की पहल काबिल-ए-तारीफ है।

संबंधित खबर :- छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले के कलेक्टर ने पेश की मिसाल, बेटी का सरकारी स्कूल में कराया दाखिला

Share it
Top