पानी की खाली बोतलों से आप कर सकते हैं ऐसे कई काम

पानी की खाली बोतलों से आप कर सकते हैं ऐसे कई कामपानी की खाली बोतलों का यूं करिए इस्तेमाल।

22 मार्च को विश्व पानी दिवस है। वाटर डे पर दुनियाभर में पानी पर चर्चा होगी। इसी बीच बात कुछ उन लोगों की जो पानी और उससे जुड़ी चीजों को लेकर चर्चा में रहते हैं, जैसे हैदराबाद में पानी वाली ये बोतलें..

यूं तो वर्षों से हैदराबाद अपनी ख़ास बिरयानी और ऐतिहासिक चारमीनार के लिए प्रसिद्ध है लेकिन अब इसको मशहूर करने वाली चीज़ों की फेहरिस्त में एक नाम और जुड़ गया है और वह है, देश का पहला रिसाइकल्ड यानि पुनर्नवीनीकरण करके बनाया गया प्लास्टिक की बोतलों का बस स्टॉप।

कई असफलताओं के बाद आखिर हैदराबाद को अपनी तरह का पहला प्लास्टिक की बोतलों से बना हुआ बस स्टॉप मिल गया है। हैदराबाद के उप्पल में स्वरूपनगर कॉलोनी के लोगों ने कई बार ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) से कई बार उनके इलाके में एक बस स्टॉप की प्रार्थना की। लेकिन उनकी किसी भी अनुरोध का कोई असर नहीं हुआ। इसके बाद एक स्थानीय व्यवसायी ने प्लास्टिक की 1000 बेकार बोतलों का इस्तेमाल करके अपना आश्रय बनाने के बारे में सोचा।

हैदराबाद में प्लास्टिक की बोतलों से बना बस स्टॉप । फोटो - क्विनटाइप

ये भी पढ़ें- 2040 तक खत्म हो जाएगा खाड़ी देशों में पानी, भारत में भी सूखेगा हलक: रिसर्च

अंग्रेज़ी वेबसाइट डेक्कन क्रोनिकल से बात करते हुए कंपनी के सबसे अच्छे कारीगरों में से एक एस जट्टियन ने बताया, शेल्टर को बनाने में प्लास्टिक की एक लीटर की 1000 बोतलों का इस्तेमाल हुआ। इन बोतलों को भोइगुदा के एक डीलर से 1 रुपये 40 पैसे प्रति बोतल के हिसाब से खरीदा गया। इसके बाद इन सभी बोतलों को ड्रिल किया गया और फिर रस्सी की मदद से सबको आपस में बांधा गया। शेल्टर केवल फ्रेम मेटल का है, उसके अलावा छत से लेकर दीवारें तक सब कुछ प्लास्टिक बोतलों से ही बनाया गया है।

इसके साथ ही वो कहते हैं कि हमको नहीं पता कि सरकारी अधिकारी इसे देखकर कैसी प्रतिक्रिया देते, इसलिए पहले इस शेल्टर को अस्थायी रूप से बनाया गया है, ताकि अगर इसको हटाना भी पड़े तो कोई परेशानी न हो। हालांकि, सरकारी अधिकारी इसे देखकर न केवल इसके डिज़ाइन से खुश हुए, बल्कि अब वो कई अन्य पायलट परियोजनाओं के लिए कंपनी के साथ बातचीत भी कर रहे हैं।

15 दिनों में बन गया बस शेल्टर

प्लास्टिक की एक हज़ार बोतलों से बनाए गए इस शेल्टर यानि आश्रय गृह को बनाने में 15 दिन लगे। बैम्बू हाउस संस्था ने एक स्वयंसेवी संस्था रिसाइकिल इंडिया के साथ मिलकर बनाने का जिम्मा लिया। शेल्टर को बनाने में बांस और मेटल का भी इस्तेमाल किया गया ताकि प्लास्टिक की बोतलें आसानी से टिकी रह सकें। बैंबू हाउस हैदराबाद की एक कंपनी है जो लकड़ी, स्टील, लोहे और प्लास्टिक की जगह बांस का उपयोग करके इको फ्रेंडली वस्तुएं बनाती है।

अंग्रेज़ी वेबसाइट बेटर इंडिया के मुताबिक़, बैंबू हाउस इंडिया के प्रशांत ने कहा कि अधिकारियों के साथ-साथ स्थानीय निवासियों ने भी इस शेल्टर को पसंद किया। लोगों ने इसकी काफी सरहाना की। अब हम सोच रहे हैं कि इस शेल्टर को और बेहतर बनाया जा सकता है।

की जा रही है तापमान सहने की जांच

इस बस शेल्टर को एक प्रतिकृति के रूप में बनाया गया था, ताकि ये देखा जा सके कि एक रिसाइकिल्ड प्लास्टिक की इस संरचना में गर्मी कैसी होगी। एहतियात के तौर पर वो हर दिन इस शेल्टर की जांच कर रहे हैं, ताकि ये सुनिश्चित हो जाए कि 40 डिग्री या उससे ज़्यादा तापमान पर ये बोतलें पिघल तो नहीं जाएंगी, लेकिन अभी तक इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।

आया सिर्फ 1500 रुपये का खर्च

इस शेल्टर को बनाने में 15,000 रुपये का खर्च आया है। इसमें ट्रांसपोर्टेशन से लेकर बोतलों तक का खर्चा शामिल है। इस शेल्टर को बनाने वाली बैंबू हाउस कंपनी पहले से ही स्थानीय इंजीनियरिंग कॉलेजों से जुड़ी हुई है, इसलिए प्रशांत को उम्मीद है कि ये प्रोजेक्ट भविष्य की परियोजनाओं के लिए प्लास्टिक की बोतलों पर उन्हें बचाने में मदद करेगा।

प्लास्टिक की बोतलों को ऐसे भी कर सकते हैं इस्तेमाल

प्लास्टिक बोतल का कर सकते हैं सिंचाई में इस्तेमाल। (साभार - पिनट्रेस्ट)
इन बोतलों में पौधे लगाकर सजावट में भी प्रयोग में लाया जा सकता है। (साभार - पिनट्रेस्ट)
फिजी के आइसलैंड में रहने वाले टॉम डेविस ने 600 खाली बोतलों का इस्तेमाल करके एक बोट बना डाली। (साभार - हाउसफुलहब ब्लॉग)
बोतलों के रंगीन ढक्कनों से बना खूबसूरत पर्दा। (साभार - पिनट्रेस्ट)
खाली बोतलों का खूबसूरत इस्तेमाल करके लॉस एंजिलिस के डिज़ाइनर ग्राथ ब्रिट्जमैन ने बनाया दिया कार खड़ी करने के लिए शेल्टर। (साभार - माई मॉर्डन मेट )

ये भी पढ़ें- किसान ऐसे प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का ले सकते हैं लाभ, पानी की बचत के साथ होगा अधिक उत्पादन

ये भी पढ़ें- सिंचाई के लिए कमाल का जुगाड़ : ग्लूकोज की बोतलों से बनाइए देसी ड्रिप सिस्टम

ग्लूकोज की खाली बोतलों से सिंचाई

Share it
Share it
Share it
Top