राज्यसभा में सरकार की दो टूक, वैध बूचड़खानों को नहीं छुएंगे, अवैध को छोड़ेंगे भी नहीं

राज्यसभा में सरकार की दो टूक, वैध बूचड़खानों को नहीं छुएंगे, अवैध को छोड़ेंगे भी नहींमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी।

नई दिल्ली (भाषा)। राज्यसभा में आज तृणमूल कांग्रेस के एक सदस्य ने उत्तर प्रदेश में बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई का मामला उठाया और कहा कि इससे लाखों लोगों की आजीविका प्रभावित हो रही है। वहीं सरकार ने स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि यह कार्रवाई सिर्फ अवैध बूचड़खाने के खिलाफ की जा रही है।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में बूचड़खाने बंद करने के लिए कार्ययोजना बनाएं पुलिस अफसर : मुख्यमंत्री योगी

तृणमूल कांग्रेस के नदीमुल हक ने शून्यकाल में यह मुद्दा उठाया और आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश, झारखंड तथा कुछ अन्य राज्यों में गोश्त दुकानों के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई करते हुए बंद किया जा रहा है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

हक ने कहा कि गोश्त के दुकानदार ज्यादातर पिछडे वर्ग से हैं और वे पुश्त दर पुश्त इस धंधे में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि गोश्त विक्रेताओं ने हड़ताल का आह्वान किया जिससे इसकी आपूर्ति कम हो गई और कीमतें बढ गयीं। उन्होंने आशंका जताई कि प्रदेश कहीं पुलिस राज्य में न बदल जाए।

ये भी पढ़ें- अवैध बूचड़खानों की बंदी चिड़ियाघर के मांसाहारी जानवरों पर पड़ रही है भारी

संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि यह विषय वैध और अवैध बूचड़खानों से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि वैध बूचड़खाना को नहीं छुआ जाएगा जबकि अवैध बूचड़खानों को नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि अवैध बूचड़खाने न केवल स्वास्थ्य बल्कि पर्यावरण के लिए भी नुकसानदेह हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top