गाय अब जीविका नहीं राजनीति का मुद्दा है, देश के अलग-अलग कोने की तस्वीर

गाय अब जीविका नहीं राजनीति का मुद्दा  है,  देश के अलग-अलग कोने की तस्वीरदेश के अलग-अलग कोनों में बीफ बैन और गोरक्षा का मुद्दा ज्वलंत होता जा रहा है (फोटो: मनीष मिश्रा)

महाराष्ट्र। गाय जीविका का आधार नहीं बल्कि राजनीति का मुद्दा बनती जा रही है। देश के अलग-अलग कोनों में बीफ बैन और गोरक्षा का मुद्दा ज्वलंत होता जा रहा है। कहीं गाय के मांस को बेचने का आरोप लगाकर गोरक्षक आक्रमक हो रहे हैं तो कहीं सरकार के फैसले के विरोध में बछड़ा काटा जा रहा है।

शनिवार रात ओडिशा में कथित गो-रक्षकों ने भुवनेश्वर स्टेशन में व्यापारी के साथ मारपीट की घटना सामने आई और अब महाराष्ट्र के मालेगांव में भी कुछ ऐसा ही वीडियो सामने आया है। यहां मालेगांव के वशीम क्षेत्र में कुछ गोरक्षकों ने दो व्यापारियों पर गाय का मांस बेचने का आरोप लगाकर बर्बरता दिखाई।

वीडियो में दिख रहा है कि कुछ गो-रक्षक आते हैं और दो व्यापारियों में से एक को उठाकर उसके साथ मारपीट करने लगते हैं। साथ ही गाली-गलौज और जय श्री राम के नारे भी लगवाते दिख रहे हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने यह वीडियो जारी किया है।

ये भी पढ़ें: सरकारें विदेशी नस्लों के पीछे भागती रहीं, हज़ारों देशी गायें मरने के लिए छोड़ दी गईं

आईआईटी मद्रास में मनी बीफ पार्टी, योगी आदित्यनाथ ने किया विरोध

केरल के बाद अब तमिलनाडु में केंद्र सरकार के फैसले के विरोध में आईआईटी मद्रास में बीफ पार्टी का आयोजन किया गया। एएनआई न्यूज एजेंसी की जानकारी के मुताबिक आईआईटी कैंपस में करीब 50 छात्रों ने बीफ पार्टी की।

इस मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने रविवार को एबीवीपी की ओर से आयोजित कार्यक्रम में कहा, डीयू और जेएनयू की घटनाओं पर बोलने वाले इस घटना (बीफ फेस्ट) पर मौन क्यों हैं?

ये भी पढ़ें: ग्लोबलाइजेशन के इस युग में गाय , गाँव , गँगा से ही उम्मीदें

योगी आदित्यनाथ ने केरल की घटना पर भी जिक्र किया। मालूम हो कि बीते दिनों युवा कांग्रेस के एक कार्यकर्ता और उनके साथियों ने केरल के कन्नूर में सार्वजनिक तौर पर एक बछड़े का वध कर दिया। इसके बाद यूथ कांग्रेस के चार कार्यकर्ताओं को निलंबित कर दिया गया।

Share it
Top