बजट 2018 में वेतनभोगी कर दाताओं को राहत, जाने कैसे बचा सकते हैं आयकर  

बजट 2018 में वेतनभोगी कर दाताओं को राहत, जाने कैसे बचा सकते हैं आयकर  

नयी दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2018-19 के बजट में व्यक्तिगत आय कर की दरों और स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया। हालांकि उन्होंने नौकरी पेशा और पेंशनभोगियों को 40,000 रुपए की मानक कटौती देने की जरूर घोषणा की है।

विशेषज्ञों के मुताबिक इससे आम नौकरी पेशा लोगों को मामूली राहत ही मिलेगी। यह मानक कटौती नौकरी पेशा लोगों के कर छूट प्राप्त परिवहन भत्ते और सामान्य चिकित्सा व्यय के एवज में दी गई है। मानक कटौती की व्यवस्था निर्धारण वर्ष 2006-07 से बंद कर दी गई थी।

ये भी पढ़ें- जानिए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट में गांव, किसान और खेती को क्या दिया 

नौकरी पेशा लोगों को 5,800 रुपए का लाभ

विशेषज्ञों की मानें तो इस छूट से वास्तव में नौकरी पेशा लोगों की करयोग्य आय में 5,800 रुपए का ही लाभ मिलने का अनुमान है क्योंकि उन्हें 19,200 रुपए सालाना का कर मुक्त परिवहन भत्ता और 15 हजार रुपए का सामान्य चिकित्सा भत्ता दिया जाता है। यह राशि 34,200 रुपए बैठती है, इसके स्थान पर अब उन्हें 40,000 रुपए की मानक कटौती उपलब्ध होगी।

ये भी पढ़ें- बजट 2018 : “ ये फुटबॉल बजट है ”

जेटली ने बजट में कहा, वेतनभोगी करदाताओं को राहत प्रदान करने के लिए मैं परिवहन भत्ता के संबंध में मौजूदा छूट तथा विविध चिकित्सीय व्यय की प्रतिपूर्ति के बदले 40,000 करोड़ रुपए तक की मानक कटौती देने का प्रस्ताव करता हूं।

ये भी पढ़ें- Budget 2018 LIVE : जानिए बजट की बड़ी बातें 

जेटली ने कहा, मानक कटौती का लाभ पेंशनभोगियों को भी मिलेगा, जिन्हें परिवहन तथा चिकित्सा व्यय के मद में कोई छूट प्राप्त नहीं होती तथापि दिब्यांग व्यक्तियों को वर्धित दर पर परिवहन भत्ता देना जारी रखा जाएगा। इसके अतिरिक्त सभी कर्मचारियों के संबंध में अस्पताल में भर्ती होने के दौरान कराए गए उपचार आदि पर अन्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति लाभ भी जारी रहेंगे।

ये भी पढ़ें- खेती पर सर्वेक्षण तैयार करने वाले अर्थशास्त्रियों को कम से कम 3 महीने गांव में बिताना चाहिए

स्वास्थ्य एवं शिक्षा पर चार प्रतिशत उपकर

मानक कटौती लागू होने से सरकार के राजस्व पर 8,000 करोड़ रुपए का असर पड़ेगा। इस निर्णय से लाभान्वित होने वाले वेतनभोगी कर्मचारियों तथा पेंशनभोगियों की कुल संख्या लगभग 2.5 करोड़ है। हालांकि वित्त मंत्री ने इसके साथ ही तीन प्रतिशत शिक्षा उपकर के स्थान पर चार प्रतिशत स्वास्थ्य एवं शिक्षा उपकर भी लगा दिया। इसका मतलब है कि आयकर दाताओं पर कर बोझ एक प्रतिशत बढ़ जाएगा।

कर स्लैब में कोई बदलाव नहीं

वित्त मंत्री ने कर स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया है। ढाई लाख रुपए तक की आय को कर मुक्त रखा गया है। इससे ऊपर पांच लाख रुपए तक की आय पर पांच प्रतिशत, पांच से 10 लाख रुपए की सालाना आय पर 20 प्रतिशत तथा 10 लाख रुपए से अधिक की सालाना आय पर 30 प्रतिशत की दर से पूर्ववत कर लगेगा। वरिष्ठ नागरिकों के लिए तीन लाख रुपए और 80 साल से अधिक आयु के बुजुर्गेां के मामले में पांच लाख रुपए तक की आय कर मुक्त है। इसके अलावा पिछले साल के बजट में लगाए गए 50 लाख रुपए से एक लाख करोड़ रुपए की आय पर 10 प्रतिशत तथा एक करोड़ रुपए से अधिक की आय पर 15 प्रतिशत का अधिभार भी ज्यों-का-त्यों रखा गया है।

ये भी पढ़ें- मध्य प्रदेश के किसान आम बजट से मायूस कहा, किसानों की उम्मीदों को छला

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

वित्त मंत्री के अनुसार निर्धारण वर्ष 2016-17 के दौरान 1.89 करोड़ वेतनभोगी व्यक्तियों ने अपनी कर विवरणी जमा कराई और कुल मिलाकर 1.44 लाख करोड़ रुपए का कर भुगतान किया। इस लिहाज से प्रत्येक नौकरीपेशा व्यक्ति ने इस दौरान 76,306 रुपए का आयकर सरकारी खजाने में दिया।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top