वर्ष 2017 में भारत 7.4 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि की राह पर : एडीबी रिपोर्ट

वर्ष 2017 में भारत 7.4 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि की राह पर : एडीबी रिपोर्टभारतीय अर्थव्यवस्था

नई दिल्ली (भाषा)। एडीबी ने आज कहा कि मजबूत उपभोग मांग के चलते वर्ष 2017 में भारत में 7.4 प्रतिशत और इससे अगले वर्ष 7.6 प्रतिशत की अनुमानित आर्थिक वृद्धि हासिल कर लेने की उम्मीद है, क्योंकि एशिया और प्रशांत क्षेत्र में दक्षिण एशिया ही वृद्धि का नेतृत्व कर रहा है।

एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने 2017 की अपनी पूरक रिपोर्ट में कहा है, ''इस उपक्षेत्र की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत के वर्ष 2017 में 7.4 प्रतिशत और वर्ष 2018 में 7.6 प्रतिशत की अनुमानित वृद्धि दर हासिल कर लेने की संभावना है और उसकी प्राथमिक वजह अच्छी खपत मांग होगी।''

ये भी पढ़ें : कहीं आप भी तो नहीं खाते चमकदार फल-सब्जियां, हो सकते हैं ये नुकसान

इस रिपोर्ट के अनुसार एशिया और प्रशांत क्षेत्र के सभी उपक्षेत्रों में दक्षिण एशिया सबसे तेजी से वृद्धि करेगा और इसकी वृद्धि दर 2017 में 7 प्रतिशत और 2018 में 7.2 प्रतिशत के मूल अनुमान को हासिल कर लेने की संभावना है।

उसने कहा है कि 2017 में विकासशील एशिया की वृद्धि संभावना में इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में अनुमान से ज्यादा निर्यात होने के आधार पर सुधार किया गया है। पूरक रिपोर्ट में उसने एशियाई क्षेत्र के लिए वृद्धि दर की संभावना वर्ष 2017 के लिए 5.7 प्रतिशत से बढ़ाकर 5.9 प्रतिशत तथा वर्ष 2018 के लिए 5.7 प्रतिशत से बढ़ाकर 5.8 प्रतिशत की है। अगले साल में निम्न वृद्धि रखने के लिए इस बात को ध्यान में रखा गया है कि निर्यात की रफ्तार बनी रहती है या नहीं।

ये भी पढ़ें : देश की सभी ग्राम पंचायतें 2019 तक हो जाएंगी इंटरनेट से लैस

एएफपी के अनुसार इस बैंक ने अप्रैल में जारी अपने पिछले अनुमान को अद्यतन किया है। अप्रैल में बैंक ने एशिया क्षेत्रा में इस साल और अगले साल में वृद्धि दर 5.7 रहने की संभावना व्यक्त की थी। पिछले साल विकासशील एशिया की वृद्धिदर 5.8 रही थी। उसने कहा कि एशियाई निर्यात के लिए वैश्विक मांग में तेजी तथा पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें घटने से चीन और इस क्षेत्र की विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को इस साल अनुमान से कहीं ज्यादा तेज रफ्तार से वृद्धि करने में मदद मिलेगी।

ये भी पढ़ें : किसानों की उम्मीदों पर सरकार ने फेरा पानी, लागत से 50 फीसदी ज्यादा समर्थन मूल्य देने से इनकार

Share it
Top