रेलवे का नया प्लान- अब यात्रियों को नहीं मिलेगी ये सुविधा

रेलवे का नया प्लान- अब यात्रियों को नहीं मिलेगी ये सुविधाएक कंबल की धुलाई पर आता है 55 रुपए खर्च

नई दिल्ली। पिछले दिनों कैग (नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक) के द्वारा ट्रेनों को पेश की गई रिपोर्ट के बाद ट्रेनों में साफ-सफाई को लेकर रेल मंत्रालय सजग हुआ है। ट्रेन में यात्रियों को दिए जाने वाले कंबल की साफ-सफाई को लेकर भारतीय रेलवे बड़ा कदम उठाने की तैयारी में है। रिपोर्ट के मुताबिक, रेल मंत्रालय ट्रेन की एसी बोगियों में दिए जाने वाले कंबल और चादर को बंद करने की सोच रही है।

एक कंबल की धुलाई पर आता है 55 रुपए खर्च

रेलवे को एक कंबल की धुलाई पर 55 रुपए का खर्च आता है, जबकि यात्रियों से इसके लिए महज 22 रुपए ही चार्ज किए जाते हैं। इसके बावजूद कई बार कम्बल साफ नहीं होते। जिससे पैसेंजर शिकायत करते हैं। तो वहीं मामले की जानकारी से जुड़े एक रेलवे अधिकारी के मुताबिक, कंबल की धुलाई के लिए खादी इंडिया से बातचीत चल रही है, लेकिन एक कंबल की धुलाई पर 110 रुपए का खर्च आ रहा है। इसलिए कंबल नहीं देने पर विचार चल रहा है।

ये भी पढ़ें:- यूपी : प्रधानमंत्री फसल बीमा के सामने कर्ज़माफी में जुटे बैंकों का भी अड़ंगा, 3 दिन में कैसे पूरा होगा लक्ष्य ?

बढ़ाया जा सकता है तापमान

रेलवे मंत्रालय दो नए विकल्पों पर विचार कर रही है। पहले विकल्प में ट्रेनों में एसी डिब्बों का तापमान बढ़ाया जा सकता है। औसतन तापमान 19 डिग्री से बढ़ाकर 24 किया जा सकता है। तापमान बढ़ने पर कंबल देने की जरूरत नहीं रहेगी। वहीं, दूसरे विकल्प में कंबल की जगह कवर दिया जा सकता है। कंबल के मुकाबले कवर की धुलाई आसान और सस्ती है।

जल्द शुरू होगा पायलेट प्रोजेक्ट

रेल मंत्रालय शुरुआत में इस तरह की कोई भी योजना लागू करने से पहले उसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चुनिंदा ट्रेनों में लागू करेगी। जिसके बाद कामयाब पॉलिसी को सभी ट्रेनों में लागू किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- महाझींगा पालन करके किसान बन सकते हैं आर्थिक रूप से मजबूत

कैग की रिपोर्ट में हुआ था खुलासा

गौरतलब है कि पिछले दिनों कैग के रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि ट्रेनों में दिए जाने वाले कंबलों को महीनों तक धुला नहीं जाता है। साथ ही इनकी धुलाई में किसी तरह की क्वालिटी का भी ख्याल नहीं रखा जाता है। जिसके बाद रेल मंत्रालय कंबल नहीं देने पर विचार कर रही है। आपको बता दें कि फिलहाल रेलवे की मौजूदा व्यवस्था में ट्रेन में एसी कोच में सफर करने पर आपको तकिया, बेडशीट और कंबल मिलता है।

ये भी पढ़ें:- गांव में चूल्‍हा-चौका करने वाली महिलाओं की कुश्ती देखी है आपने ? जहां पुरुषों का प्रवेश वर्जित है

टमाटर की नई किस्म, एक पौधे से 19 किलो पैदावार का दावा

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top