Top

भूख की गंभीर श्रेणी में भारत, 14 फीसदी आबादी कुपोषण की शिकार, नेपाल, बांग्लादेश और पाकिस्तान की स्थिति बेहतर

ग्लोबल हंगर इंडेक्स की सूची में भारत की स्थिति ठीक नहीं कही जा सकती। गंभीर श्रेणी में तो पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे देश भी हैं लेकिन उनकी रैंक भारत से बेहतर है।

भूख की गंभीर श्रेणी में भारत, 14 फीसदी आबादी कुपोषण की शिकार, नेपाल, बांग्लादेश और पाकिस्तान की स्थिति बेहतरभारत में कुपोषण अभी भी समस्या बनी हुई है।(फोटो साभार- सोशल मीडिया)

भारत वैश्विक भूख सूचकांक 2020 में 107 देशों की सूची में 94वें स्थान पर है और भूख की गंभीर श्रेणी में है। पिछले साल इस लिस्ट में भारत का स्थान 102 था। पड़ोसी देशों बांग्लादेश, म्यांमार और पाकिस्तान भी भूख की गंभीर श्रेणी में हैं, लेकिन भूख सूचकांक में भारत से ऊपर बांग्लादेश 75वें, म्यांमार 78वें और पाकिस्तान 88वें स्थान पर है।

रिपोर्ट के अनुसार नेपाल 73वें, और श्रीलंका 64वें स्थान पर हैं। ये दोनों देश भूख की मध्यम श्रेणी में हैं। ग्लोबल हंगर इंडेक्स (जीएचआई) की वेबसाइट पर शुक्रवार को रिपोर्ट जारी की गयी। रिपोर्ट में बताया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दा 3.7 फीसदी थी। वहीं ऐसे बच्चों की दर 37.4 फीसदी थी जो कुपोषण के कारण बढ़ नहीं पाते।

भारत की 14 फीसदी आबादी कुपोषण की शिकार है। रिपोर्ट में कहा गया कि बांग्लादेश, भारत, नेपाल और पाकिस्तान के लिए 1991 से अब तक के आंकड़ों से पता चलता है कि वैसे परिवारों में बच्चों के कद नहीं बढ़ पाने के मामले ज्यादा हैं जो कई तरह की कमी से जूझ रहे हैं। इसमें पौष्टिक भोजन की कमी, मातृ शिक्षा का निम्न स्तर और गरीबी आदि कारण शामिल हैं।

भारत में पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर में कमी आई है।


चीन, बेलारूस, यूक्रेन, तुर्की, क्यूबा और कुवैत सहित 17 देश भूख और कुपोषण पर नजर रखने वाले वैश्विक भूख सूचकांक (जीएचआई) में शीर्ष रैंक पर हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि समय से पहले जन्म और कम वजन के कारण बच्चों की मृत्यु दर विशेष रूप से गरीब राज्यों और ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ी है।

हालांकि ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2020 में भारत की रैंकिंग सुधरी है। पिछली बार 117 देशों में भारत की रैंकिंग 102 थी, लेकिन गौर करने वाली बात ये है कि इस साल कुल देशों की संख्या भी घटी है। इससे पहले भारत साल 2015 में 93वें, 2016 में 97वें, 2017 में 100वें, 2018 में 103वें स्थान पर रहा था। रिकॉर्ड दिखाते हैं कि भुखमरी को लेकर भारत में संकट बरकरार है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2020 की रिपोर्ट के अनुसार, 27.2 स्कोर के साथ भारत में भूख के मामले में स्थिति 'गंभीर' है। रिपोर्ट की मानें, तो भारत की करीब 14% जनसंख्या कुपोषण का शिकार है।

Updating...

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.