चीनी आयात के फैसले को निरस्त करे सरकार- भारतीय किसान यूनियन

चीनी आयात के फैसले को निरस्त करे सरकार- भारतीय किसान यूनियनगन्ना किसान।

लखनऊ। भारत सरकार ने पांच लाख टन चीनी आयात करने का फैसला किया है। इस फैसले से प्रदेश के गन्ना किसानों और चीनी मिलों की चिंता बढ़ गई है। भारतीय किसान यूनियन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पत्र लिखकर चीनी आयात के फैसले को निरस्त करने की मांग की है। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया कि देश में चीनी उत्पादन में गिरावट बताकर केन्द्र सरकार बिना आयात शुल्क के पांच लाख टन चीनी आयात करने जा रही है।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उन्होंने कहा कि भारत दुनिया में चीनी का चौथा बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता देश है। इस साल देश में 2.25 करोड़ टन चीनी उत्पादन का अनुमान है। यही नहीं चीनी उत्पादन इससे भी अधिक हो सकता है। ऐसे में सरकार का चीनी आयात करने का फैसला देश के चीनी उद्योग की कमर तोड़ देगा। किसान नेता ने कहा कि पछले सालों में सरकार ने बड़ी मात्रा में चीनी का आयात किया था। जिससे चीनी के दाम घरेलू बाजार में निम्न स्तर पर आ गया था। स्थित यह हो गई थी कि चीनी मिले किसानों का पैसा समय से भुगतान भी नहीं कर पा रही थी। जिससे गन्ना किसान बर्बाद हो गए। उन्होंने बताया कि साल 2015-16 में देश में 2.51 करोड़ टन चीनी उत्पादन हुआ था। ऐसे में अगर सरकार इस साल चीनी का आयात करती है तो गन्ना किसानों के बुरे दिन फिर से चालू हो जाएंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top