जाधव की पत्‍नी और मां की चूड़ियां, बिंदी और मंगलसूत्र उतरवाए गए, जूते वापस नहीं हुए: विदेश मंत्रालय

जाधव की पत्‍नी और मां की चूड़ियां, बिंदी और मंगलसूत्र उतरवाए गए, जूते वापस नहीं हुए: विदेश मंत्रालयभारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता रवीश कुमार 

नई दिल्‍ली। कुलभूषण जाधव की पत्‍नी और मां की सोमवार को पाकिस्‍तान में मुलाकात के बाद विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को बयान जारी करते हुए कहा कि पाकिस्‍तान ने इस मुलाकात के दौरान भारतीय संस्‍कृति और धार्मिक भावनाओं का ख्‍याल नहीं रखा गया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता रवीश कुमार ने कहा, "मुलाकात से पहले कुलभूषण जाधव की पत्‍नी और मां की चूडि़यां, बिंदी और मंगलसूत्र उतरवाए गए। उनके कपड़े बदलवाए गए। उनके जूते वापस नहीं हुए।

पाकिस्तान की जेल में जासूसी के मामले में बंद भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव ने सोमवार (25 दिसंबर) को इस्लामाबाद में अपनी पत्नी और मां से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान पाकिस्तान का रवैया चौंका देने वाला था। जाधव से उनकी मां और पत्नी की मुलाकात एक बंद कमरे में शीशे की दीवार के बीच कराई गई। बातचीत के दौरान विदेश मंत्रालय के कुछ अधिकारी भी वहां मौजूद थे। बातचीत के लिए एक इंटरकॉम का इस्तेमाल किया गया और कई कैमरों की निगरानी में पूरी मुलाकात हुई।

पाकिस्तान ने मानवीय आधार पर कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी को उनसे मिलने की इजाजत दी थी. हालांकि मुलाकात के दौरान पड़ोसी देश ने मानवता के सभी मापदंडों की अवहेलना की. यहां तक कि मुलाकात से पहले जाधव की पत्नी और मां के कपड़े तक बदलवाए गए. उनके कानों की बाली से लेकर बिंदी भी हटा दी गई. मुलाकात से पहले जारी तस्वीर और वीडियो में दिख रहा है कि जाधव की मां और पत्नी इस्लामाबाद पहुंचे तब दोनों ने बिंदी लगाई थी कानों में बालियां भी पहनी थी. लेकिन मुलाकात के दौरान कमरे में बैठे परिजनों के कान खाली थे और बिंदी भी हटा दी गई.

बदलवाए गए कपड़े

मुलाकात से पहले और बाद के फोटो में साफ नजर आ रहा है कि इस्लामाबाद पहुंचने के बाद जाधव की मां और पत्नी के कपड़े बदलवाए गए थे। मुलाकात से पहले की फोटो में मां ने सफेद रंग की साड़ी पहनी हुई थी और उन्होंने एक शॉल ली थी, जबकि पत्नी ने लाल-पीले रंग का सूट पहना था और एक शॉल भी ओढ़े हुए थीं। मुलाकात के बाद भी दोनों इन्हीं कपड़ों में नजर आईं, लेकिन बंद कमरे में मुलाकात के दौरान दोनों की ही वेशभूषा अलग थी।

पाकिस्तान ने दिया सुरक्षा कारणों का हवाला

शीशे की दीवार में मुलाकात के सवाल पर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता फैजल की ओर से दलील दी गई कि उन्हें पहले ही बता दिया गया था कि सुरक्षा कारणों के चलते शीशे की दीवार के बीच मुलाकात कराई जाएगी। वहीं जाधव को काउंसलर एक्सेस के सवाल पर फैजल ने कहा कि यह काउंसलर एक्सेस नहीं था। यह सिर्फ 30 मिनट की मुलाकात थी, जिसे जाधव के कहने पर 10 मिनट और बढ़ाया गया था।

ये भी पढ़े:- मुलाकात या मजाक: पाकिस्तान में अपनी पत्नी और मां से मिले कुलभूषण जाधव, मगर बीच में थी शीशे की दीवार

Share it
Share it
Share it
Top