त्यौहार में रेलवे ने अपने यात्रियों को दी सौगात, यात्रियों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए स्पेशल ट्रेनें चलाई 

त्यौहार में रेलवे ने अपने यात्रियों को दी सौगात, यात्रियों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए स्पेशल ट्रेनें चलाई प्रतीकात्मक तस्वीर।

लखनऊ। दीवाली और छठ पूजा के लिए रेलवे की ओर से पूजा स्पेशल ट्रेनों की संख्या और बढ़ाई गई है। मुंबई और दिल्ली से बिहार तथा वाराणसी तक के लिए सात जोड़ी गाड़ियां चलाई जाएंगी। विहार जाने वाली छ: जोड़ी ट्रोनों का ठहराव अप-डाउन दोनों समय मुगलसराय में होगा।

वहीं दो स्पेशल ट्रेनें कानपुर से होकर आएंगी और जाएंगी। इन स्पेशल ट्रेनों से यात्री पुणे से गोरखपुर तक छ: अक्तूबर से 29 नवंबर और जसीडीह, पटना से आनंद विहार तक स्पेशल ट्रेन वाया कानपुर 15 अक्तूबर से सात नवंबर तक चलेंगी।

यह भी पढ़ें- भीम और यूपीआई ऐप से रेल टिकट करें बुक, फ्री में सफर करने का पाएं मौका

ये हैं ट्रेनें

पटना-आनंद बिहार -पटना (02365/66) सप्ताह में दो दिन चलेगी। गाड़ी 12 अक्टूबर से शुरू होकर 10 नवम्बर तक चलेगी। इसके अलावा वाराणसी जंक्शन से दिल्ली के लिए आनंद विहार-वाराणसी-आनंद विहार (04011/04012) पूजा स्पेशल ट्रेन है। सप्ताह में तीन दिन होगी।

मुगलसराय पर रुकने वाली साप्ताहिक ट्रेन आनंद विहार-गया-आनंद विहार (04043/44), आनंद विहार-जयनगर-आनंद विहार (04041/42) सप्ताह में दो दिन, आनंद विहार-सियालदह-आनंद विहार (02266/65) साप्ताहिक, आनंद विहार-पटना-आनंद विहार (04004/03) सप्ताह में दो दिन और सप्ताहिक ट्रेन रांची-आऩंद विहार-रांची (08617/18) हैं। नवम्बर के शुरुआती दिनों तक इनका संचालन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- रेल के डिब्बों में लगेंगे CCTV, रेल मंत्री ने जनता की सुरक्षा के किए बंदोबस्त

गोरखपुर के लिए ट्रेन (01453) 15 अक्तूबर से पांच नवंबर तक हर रविवार को पुणे से शाम 7:55 बजे चलेगी। भोपाल, झांसी होते हुए कानपुर सेंट्रल दूसरे दिन 7:05 बजे पहुंचेगी। दस मिनट रुकेगी और लखनऊ होते हुए सुबह 4:35 बजे गोरखपुर पहुंचेगी। वापसी में ट्रेन नंबर (01454) 17 अक्तूबर से सात नवंबर तक हर मंगलवार को गोरखपुर से सुबह 7:30 बजे चलेगी। कानपुर दोपहर 2:20 बजे पहुंचेगी और पांच मिनट रुकने के बाद दूसरे दिन शाम पांच बजे पुणे पहुंचेगी। इसमें सभी 20 कोच सामान्य श्रेणी के होंगे।

खेती और रोजमर्रा की जिंदगी में काम आने वाली मशीनों और जुगाड़ के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top