तो ये थी वजह तत्काल टिकट न हो पाने की

तो ये थी वजह तत्काल टिकट न हो पाने कीसाभार: इंटरनेट।

तत्काल टिकट में धांधली को लेकर बुधवार को सीबीआई ने सॅाफ्टवेयर प्रोग्रामर को गिरफ्तार किया है। सीबीआई के मुताबिक एजेंसी के सहायक प्रोग्रामर अजय गर्ग और उसके मुख्य सहयोगी अनिल गुप्ता को सॉफ्टवेयर विकसित कर रुपये की एवज में साफ्टवेयर बांटने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। एजेंट इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर तत्काल टिकट करते और यात्रियों से अच्छी खासी कमीशन वसूलते थे। खास बात ये है कि टिकट बुकिंग करने वाले एजेंटों को अजय गर्ग के बारे में नहीं पता होता था।

सीबीआई के मुताबिक अजय गर्ग 2007 से 2011 तक IRCTC में काम करता था। इस दौरान उसने साइट की कमजोरियों को पहचाना और एक सॉफ्टवेयर बनाया। इस सॉफ्टवेयर के जरिए पल भर में तत्काल टिकट हो जाता था, जबकि आम यात्रियों को लंबी लाइनों में लगने के बाद भी टिकट नहीं मिल पाता था। टिकट में धांधली का ये कारोबार पिछले एक साल से जारी था।

येे भी पढ़ें- भारतीय रेल: आईआरसीटीसी से आधार कराइये लिंक और 10 हजार रुपए जीतने के साथ मुफ्त यात्रा का पाइये मौका

लंबे समय से हो रही थी जांच

सीबीआई लंबे वक्त से मामले की जांच कर रही थी। पुख्ता सूचना मिलने के बाद सीबीआई ने 14 स्थानों पर छापेमारी की थी। इस दौरान सीबीआई ने पूरे गिरोह का भांडफोड़ करते हुए अजय गर्ग और उसके करीबी अनिल को गिरफ्तार कर लिया है।

ये भी पढ़ें- अगर आपने अपने आईआरसीटीसी अकाउंट में बनाई है मास्टर लिस्ट तो ‘तत्काल’ में मिल सकता है आसानी से टिकट

सीबीआई की टीम को अजय के ठिकानों से 19 पेन ड्राइव, चार डोंगल, 89 लाख रुपये नकद, 61 लाख रुपये सोने की ज्वेलरी, 15 हार्डडिस्क, 52 मोबाइल फोन, 24 सिम कार्ड 10 नोटबुक, छह रॉउटर बरामद हुए हैं। फिलहाल साकेत की विशेष अदालत ने अजय को पांच दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

संबंधित खबरें- ... तो फेसबुक अकाउंट बनाने के लिए भी ज़रूरी होगा आधार

रेलवे ने तत्काल टिकट बुक करने के बदले नियम , चंद मिनटों में ऐसे करें कन्फर्म टिकट बुक

रेल यात्रा के दौरान अगर कोई करता है आपको परेशान तो इस ऐप के जरिये ले सकती हैं आरपीएफ की मदद

Tags:    IRCTC 
Share it
Share it
Share it
Top