गुड न्यूज :  ट्रेन से सफर करने वाले यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी, कमाई भी बढ़ी

गुड न्यूज :  ट्रेन से सफर करने वाले यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी, कमाई भी बढ़ीभारतीय रेल की तरफ यात्रियों का आकर्षण बढ़ रहा है।

लखनऊ। भारतीय रेल की तरफ यात्रियों का आकर्षण बढ़ रहा है। भारतीय रेल में पिछले साल की अपेक्षा इस वर्ष 6.5 प्रतिशत यात्रियों की बढ़ोतरी हुई है। ये बढ़ोतरी एक अप्रैल से 20 नवंबर के बीच हुई है। यह वृद्धि अप्रैल 2015 से नवंबर 2015 के मुकाबले 3.8 प्रतिशत ज्यादा है। रेलवे के मुताबिक ऐसे यात्री जो ट्रेन में रिजर्वेशन करके चलते हैं या बिना रिजर्वेशन के चलते हैं इस तरह के यात्रियों में 50 करोड़ यात्रियों का इजाफा हुआ है। ये पिछले साल के मुकाबले एक प्रतिशत की बढ़त पर है। इससे विभाग को इस साल 1579.22 करोड़ का फायदा हुआ है।

फर्स्ट एसी में लोगों का रुझान बढ़ा

भारतीय रेल की सबसे मंहगी यात्रा प्रथम वातानुकूलित श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या पिछले साल के मुकाबले 8.53 प्रतिशत बढ़ी है।

ये भी पढ़ें- कोहरे में लेट न हो ट्रेंनें इसके लिए भारतीय रेल तकनीक का कर रहा परीक्षण

हाईक्लास लोगों की पसंद बनी रेल

रेलवे के मुताबिक इस साल मध्यम वर्गीय या हाईक्लास लोगों में भी रेल यात्रा को लेकर इजाफा हुआ है। ये आंकड़ा 0.61 फीसदी से बढ़कर 0.63 फीसदी तक की वृद्धि हो गई है। जिससे 1.6 लाख यात्रियों की वृद्ध हुई है।

थर्ड एसी बना पहली पसंद

लोगों की सबसे ज्यादा पसंदीदा श्रेणी थर्ड एसी है। जिसमें 9.68 प्रतिशत यात्रियों का इजाफा हुआ। इसमें नवंबर 2016 की अपेक्षा 5.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। अभी तक थर्ड एसी में यात्रियों का सबसे ज्यादा प्रतिशत 17.37 ही रहा है। इसमें पिछले वर्ष के मुकाबले एक प्रतिशत की वृद्धि हुई है। सेकेंड क्लास एसी जिसकी कई बार कीमत हवाई जहाज से भी ज्यादा होती है। उसमें भी यात्रियों में 6.66 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इतना ही नहीं नॉन एसी स्लीपर में भी पिछले साल के मुकाबले 4.7 प्रतिशत यात्रियों का इजाफा हुआ है।

ये भी पढ़ें- कभी सोचा है आपने? ट्रेन के हर हॉर्न का अलग मतलब होता है जनाब...

फ्लेक्सी फेयर सिस्टम की हुई थी आलोचना

सितंबर 2016 में रेलवे ने रिजर्व श्रेणी के लिये 'फ्लेक्सी फेयर' सिस्टम की शुरूआत हुई थी। हालांकि इस सिस्टम की आलोचना करते हुए कहा गया था कि इस सिस्टम के लागू होने से रेलवे में फर्स्ट एसी, सेकेंड या थर्ड एसी का किराया हवाई जहाज के किराये से भी ज्यादा मंहगा हो जाएगा। अधिकारियों के मुताबिक यात्रियों की संख्या में वृद्धि एक तरह का प्रमाण है कि लोग फ्लेक्सि-फेयर सिस्टम को पसंद कर रहे है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top