अच्छी खबर: रेलवे में थर्ड एसी से भी सस्ता कोच लाने की तैयारी

अच्छी खबर: रेलवे में थर्ड एसी से भी सस्ता कोच लाने की तैयारीरेलवे जल्द लॉन्च करेगी इकोनॉमी कोच 

नई दिल्ली (भाषा)। अगर आप भी एसी कोच के किराए पर अक्सर होने वाली बढ़ोत्तरी को लेकर परेशान हैं तो ये खबर आपके लिए है। ट्रेनों से यात्रा करने वाले मुसाफिरों को जल्द ही इकोनॉमी एसी कोच की एक नई श्रेणी में यात्रा करने का विकल्प मिलेगा। इस कोच के लिए किराया भी सामान्य थर्ड एसी के किराए से कम होगा।

रेलवे की योजना चुनिंदा रूटों पर ज्यादा से ज्यादा लोगों के सफर को आरामदायक और किफायती बनाने का है। बता दें कि फिलहाल मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में स्लीपर, थर्ड एसी, सेकंड एसी और फर्स्ट एसी क्लास हैं, जबकि राजधानी, शताब्दी और हाल ही में शुरू की गईं हमसफर और तेजस ट्रेनें पूरी तरह एयर कंडीशंड हैं।

ये भी पढ़ें: वीडियो: टीटीई ने जीएसटी के नाम पर यात्रियों से वसूले 20-20 रुपए

इकोनॉमी एसी क्लास में यात्रियों को कंबल की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि उसका तापमान 24-25 डिग्री सेल्सियस होगा। प्रस्तावित पूरी तरह से वातानूकुलित ट्रेनों में एक नया फीचर ऑटोमेटिक दरवाजे भी होंगे। इस आइडिया को अमली जामा पहनाने के लिए रेलवे में एक विशेष टीम भी बनाई गई है।

पढ़ें: क्या आप जानते हैं भारतीय रेलवे के गार्ड भोलू के बारे में, हर रेल यात्रा में रहता है आपके साथ

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘नए इकोनॉमी एसी क्लास में दूसरी एसी क्लास ट्रेनों की तरह ठंडक नहीं रहेगी और तापमान 24-25 के करीब फिक्स रहेगा। हमारी कोशिश यह है कि यात्रियों का सफर आरामदायक बन सके और उन्हें बाहर की गर्मी से बचाया जा सके।’

पढ़ें: आईटी सेक्टर के बाद अब रेलवे कर्मचारियों के आ सकते हैं बुरे दिन, 11,000 नौकरियों पर खतरा

प्रस्तावित नई ट्रेन में इकोनॉमी एसी क्लास के कोच ज्यादा होंगे, जिससे अधिक यात्रियों को इस सुविधा का लाभ दिया जा सकेगा। अधिकारी ने बताया कि नए इकोनॉमी क्लास एसी कोच बनाने से पहले इस पर अभी और काम किया जाना बाकी है, उसके बाद ही मैन्युफैक्चरिंग शुरू होगी।

पढ़ें: कभी सोचा है आपने? ट्रेन के हर हॉर्न का अलग मतलब होता है जनाब...

बता दें कि हाल ही में शुरू हुई हमसफर एक्सप्रेस यात्रियों की पसंदीदा बन गई है और उसमें केवल थर्ड एसी कोच हैं। रेलवे अधिकारी ने बताया कि इकोनॉमी एसी डिब्बों के निर्माण का फैसला करने से पहले इनके ब्यौरों पर काम किया जाना है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top