पानी की जांच कर कैंसर से बचाएगा लेजर फ्लोरीमीटर 

पानी की जांच कर कैंसर  से बचाएगा लेजर फ्लोरीमीटर इस पानी से आप कपड़े धुलना भी पसंद नहीं करेंगे। फाइल फोटो

इंदौर। अब पंजाब समेत देश के उन सभी राज्यों के बाशिंदों को कैंसर और अन्य गंभीर बीमारियों के खतरे से बचाया जा सकेगा जहां जल स्रोतों में यूरेनियम के अंश घातक स्तर पर पाए जाते हैं। देश के एक प्रमुख वैज्ञानिक संस्थान ने लेजर फ्लोरीमीटर नाम का उपकरण बनाया है जिससे पानी में यूरेनियम के अंशों का स्तर पता लगाया जा सकेगा। आज विश्व जल दिवस 2018 है।

इंदौर के राजा रमन्ना प्रगत प्रौद्योगिकी केंद्र (आरआरसीएटी) के निदेशक पीए नाइक ने बताया, "मूल रूप से इस उपकरण के अविष्कार की परिकल्पना देश में यूरेनियम के नए भूमिगत भंडारों की खोज के लिए रची गई थी, लेकिन पंजाब के जल स्रोतों में यूरेनियम के अंश मिलने के मामले सामने आने के बाद हमने आम लोगों के स्वास्थ्य की हिफाजत के मद्देनजर इसे नए सिरे
से विकसित कर इसका उन्नत संस्करण तैयार किया है।"

ये भी पढ़ें- वो वक्त आने वाला है जब भारत के इस शहर के सभी नलों में पानी नहीं आएगा  

उन्होंने बताया कि इस छोटे-से उपकरण को आसानी से कहीं भी ले जाया जा सकता है। किसी भी स्रोत से पानी का नमूना लेकर उपकरण में डाला जा सकता है। यह उपकरण फटाफट बता देता है कि पानी में यूरेनियम के अंशों का स्तर कितना है। नाइक ने यह भी बताया कि लेजर फ्लोरीमीटर के बड़े पैमाने पर विनर्मिाण के लिए इसकी तकनीक परमाणु ऊर्जा विभाग की ही इकाई इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ईसीआईएल) को सौंपी गई है।

ये भी पढ़ें- बनारस में नहीं बचा गंगा की सहायक असि व वरुणा नदी का अस्तित्व

लेजर फ्लोरीमीटर विकसित करने में अहम भूमिका निभाने वाले आरआरसीएटी के वैज्ञानिक सेंधिलराजा एस. ने बताया, "वर्ष 1996 में लेजर फ्लोरीमीटर सरीखा उपकरण 19 लाख रुपए प्रति इकाई की दर पर कनाडा से आयात किया जाता था। हमने सतत अनुसंधान के जरिए सुधार करते हुए स्वदेशी तकनीक वाला उन्नत लेजर फ्लोरीमीटर तैयार किया है। इसे बनाने में महज एक लाख रुपए का खर्च आया है, बड़े पैमाने पर उत्पादन की स्थिति में कीमत और घट सकती है।"

ये भी पढ़ें- नहाने में इतना पानी बर्बाद न करिए कि कल हाथ धोने को भी न मिले

सेंधिलराजा ने बताया कि यह उपकरण जल के नमूने में 0.1 पीपीबी (पार्ट्स-पर-बिलियन) की बेहद बारीक इकाई से लेकर 100 पीपीबी तक यूरेनियम के अंशों की जांच कर सकता है।

ये भी पढ़ें- रहट सिंचाई जानते हैं क्या होती है? बिना डीजल और बिजली के निकलता था पानी

गौरतलब है कि परमाणु ऊर्जा नियामक बोर्ड (एईआरबी) ने पेयजल में यूरेनियम के अंशों की अधिकतम स्वीकृत सीमा 60 पीपीबी तय कर रखी है। विशेषज्ञों ने चेताया है कि लोगों को अपनी सेहत की हिफाजत के मद्देनजर ऐसे स्त्रोतों के पानी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, जिनमें यूरेनियम के अंश एईआरबी की तय सीमा से ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं।

ये भी पढ़ें- 800 लोगों पर एक हैंडपंप : “साहब पीने को पानी नहीं, रोज नहाएं कैसे”

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेड एंड नेक ऑन्कोलॉजी के सचिव और देश के वरिष्ठ कैंसर सर्जन दिग्पाल धारकर ने कहा, "यूरेनियम एक रेडियोएक्टिव तत्व है, अगर किसी जल स्त्रोत में यूरेनियम के अंश तय सीमा से ज्यादा हैं, तो इसके पानी के इस्तेमाल से थायरॉइड कैंसर, रक्त कैंसर, बोन मैरो डिप्रेशन और अन्य गंभीर बीमारियां हो सकती हैं, इससे बच्चों को भी कैंसर होने का खतरा होता है।"

ये भी पढ़ें- दूषित पानी से बीमारियों की दहशत पर खड़ा हो रहा आरओ और बोतलबंद पानी का बाजार

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top