वकील से सीधे सुप्रीम कोर्ट की जज बनीं इंदू मल्होत्रा आज लेंगी शपथ

वकील से सीधे सुप्रीम कोर्ट की जज बनीं इंदू मल्होत्रा आज लेंगी शपथसाभार: इंटरनेट।

सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीश नियुक्त की गईं वरिष्ठ अधिवक्ता इंदु मल्होत्रा को आज सुबह भारत के प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा पद की शपथ दिलाएंगे। वह देश की पहली ऐसी महिला वकील हैं जो बार ( वकालत ) से सीधे देश की शीर्ष अदालत में न्यायाधीश नियुक्त की गई हैं। मल्होत्रा का नाम उन दो लोगों में शामिल था जिन्हें उच्चतम न्यायालय के कोलेजियम ने शीर्ष अदालत में न्यायाधीश नियुक्त करने की सिफारिश की थी।

केंद्र ने जस्टिस जोसेफ की फाइल वापस भेजी, सुप्रीम कोर्ट से कहा-फिर से विचार करें

सरकार ने मल्होत्रा के नाम पर मंजूरी दी जबकि दूसरे नाम- उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश केएम जोसेफ पर फिर से विचार के लिए कोलेजियम के पास भेज दिया। उच्चतम न्यायालय के आज के कामकाज की सूची में इस बात का जिक्र है कि आज मल्होत्रा को पद की शपथ दिलाई जाएगी।

ये भी पढ़ें- ताजमहल किसका ? वक़्फ बोर्ड ने कहा, शाहजहां ने किया था ‘दान’, सुप्रीम कोर्ट ने कहा दिखाओ दस्तावेज 

1983 में शुरू की वकालत

साल 1982 में कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद इंदु मल्होत्रा ने साल 1983 से लॉ प्रेक्टिस शुरू की। दिल्ली के बार काउंसिल में अपना पंजीकरण के बाद साल 1988 में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में 'एडवोकेट-ऑन-रिकॉर्ड' के रूप में पहला स्थान पाकर क्वालिफाई किया।

सुप्रीम कोर्ट जज बनने वाली सातवीं महिला

सुप्रीम कोर्ट में जज का पद हासिल करने वाली इंदु मल्होत्रा सातवीं महिला होंगी। साल 1988 में सबसे पहले जस्टिस एम. फातिमा बीवी सुप्रीम कोर्ट की महिला जज बनी थीं। उनके बाद जस्टिस सुजाता वी. मनोहर, जस्टिस रुमा पाल, जस्टिस ज्ञान सुधा मिश्रा, जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई और जस्टिस आर. भानुमति भी सुप्रीम कोर्ट की जज बनीं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top