25 साल तक कैपजेमिनी से जुड़े रहने वाले सलिल पारेख 2 जनवरी को संभालेंगे इंफोसिस की कमान

25 साल तक कैपजेमिनी से जुड़े रहने वाले सलिल पारेख 2 जनवरी को संभालेंगे इंफोसिस की कमानल पा

नई दिल्‍ली। देश की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस ने दो माह लंबी खोजबीन के बाद आखिरकार अपने लिए नए मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक (CEO और MD) को ढूढ़ लिया है। इंफोसिस ने फ्रांस की आईटी कंपनी कैपजेमिनी के कार्यकारी सलिल पारेख को अपना CEO और MD नियुक्‍त करने की घोषणा की है। पारेख का कार्यकाल 2 जनवरी 2018 से शुरू होगा। उनकी यह नियुक्ति पांच साल के लिए की गई है।

पारेख कैपजेमिनी के ग्रुप एग्‍जीक्‍यूटिव बोर्ड के सदस्‍य थे। उन्‍होंने कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से कम्‍प्‍यूटर साइंस और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में मास्‍टर ऑफ इंजीनियरिंग डिग्री हासिल की हैं। उन्‍होंने इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी, बॉम्‍बे से एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बेचलर ऑफ टेक्‍नोलॉजी डिग्री भी हासिल की है।

ये भी पढ़ें- खेती गुर सीखने किसान जाएंगे पाठशाला, यूपी ने शुरु किया “द मिलियन फारमर्स स्कूल”

इंफोसस बोर्ड के चेयरमैन नंदन नीलेकणी ने बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज को दी गई जानकारी में कहा कि हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि सलिल एस पारेख इंफोसिस को सीईओ और एमडी के रूप में ज्‍वॉइन करने जा रहे हैं। उनके पास आईटी सर्विस इंडस्‍ट्री में लगभग 30 सालों का लंबा अनुभव है। उनके पास व्यावसायिक बदलाव लाने और बहुत सफल अधिग्रहण का प्रबंधन करने का एक मजबूत ट्रैक रिकॉर्ड है। बोर्ड का मानना है कि वह हमारे उद्योग में इस परिवर्तनकारी समय पर इंफोसिस का नेतृत्व करने के लिए एकदम सही व्यक्ति हैं।

यह भी पढ़ें- तो प्याज उगाना छोड़ देंगे किसान

किरण मजूमदार शॉ, जो इंफोसिस की नॉमीनेशन एंड रेमूनरेशन कमेटी की प्रमुख है, ने कहा कि अत्‍यधिक योग्‍य उम्‍मीदवारों में से पारेख सबसे पहली पसंद थे। यूबी प्रवीण राव, जो विशाल सिक्‍का के बाद अंतरिम सीईओ और एमडी की जिम्‍मेदारी संभाल रहे हैं, 2 जनवरी 2018 से दोबारा सीओओ और कंपनी के पूर्ण-कालिक निदेशक की भूमिका में आ जाएंगे।

यह भी पढ़ें- महिला किसानों के लिए मिसाल बनी बिहार की ‘किसान चाची’

Share it
Top