देश में महिलाओं के नाम पर बढ़ रहा संपत्ति पर मालिकाना हक

देश में महिलाओं के नाम पर बढ़ रहा संपत्ति पर मालिकाना हकफोटो साभार: इंटरनेट

घरेलू हिंसा, महिला अधिकारों, यौन उत्पीड़न जैसे तमाम मुद्दों से जूझ रही देश की महिलाओं के लिए एक अच्छी खबर है। अब देश में महिला सशक्तिकरण के बेहतर संकेत देखने को मिल रहे हैं। हाल में एक सर्वेक्षण में सामने आया है कि देश की 40 प्रतिशत महिलाएं संपत्ति की मालकिन हैं। ऐसे में महिलाओं की स्थिति में सुधार हो रहा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस-4) के तहत भारत के 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में यह सर्वेक्षण कराया गया। इन राज्यों में हरियाणा, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, सिक्किम, मध्य प्रदेश, बिहार, गोआ, मेघालय, तमिलनाडु, उत्तराखंड, त्रिपुरा और दो केंद्र शासित प्रदेश शामिल हैं।

इस सर्वेक्षण में महिला सशक्तिकरण में काफी हद तक सुधार पाया गया है। सर्वे में सामने आया है कि इन राज्यों में 40 प्रतिशत महिलाओं के पास या तो संपत्ति है, या परिवार की संपत्ति में उनका हिस्सा है। इन राज्यों में किए गए सर्वेक्षण में यह भी सामने आया कि अपनी संपत्ति की मालकिन होने के साथ-साथ महिलाओं के पास अपने पति की संपत्ति में भी हिस्सा है।

इतना ही नहीं, कुछ राज्यों में संपत्ति पर महिलाओं के मालिकाना हक पर खासा सुधार देखा गया है। इनमें सबसे आगे बिहार हैं, जहां 58 प्रतिशत से ज्यादा महिलाओं के पास संपत्ति पर अधिकार है। इसके अलावा उत्तर पूर्व के त्रिपुरा और मेघालय में यह आंकड़ा 57 प्रतिशत से ज्यादा रहा, वहीं कर्नाटक और तेलंगाना में यह आंकड़ा क्रमश: 51 व 50 प्रतिशत से ज्यादा रहा।

यह भी पढ़ें: वर्तमान भारतीय राजनीति की ताकतवर महिलाएं

उत्तर राज्यों को भी पीछे छोड़ा

दूसरी तरफ सेंटर फॉर लैंड गर्वनेंस की ओर से हाल में जारी की गई एक रिपोर्ट में सामने आया है कि दक्षिण और पूर्वोत्तर राज्यों में महिलाओं के नाम पर संपत्ति के मामले में उत्तरी राज्यों को पीछे छोड़ दिया है। रिपोर्ट में खुलासा किया गया कि एक तरफ जहां उत्तरी राज्यों में 9.8 फीसदी महिलाएं ही संपत्ति की मालकिन हैं, दूसरी तरफ पूर्वोत्तर राज्यों में यह आंकड़ा औसतन 14.1 प्रतिशत और दक्षिणी राज्यों में 15.4 प्रतिशत तक पहुंचा है, यानि इतने प्रतिशत महिलाओं के पास जमीन है।

सबल महिलाओं की समान भागीदारी न्यू इंडिया का सपना: मोदी

बीती फरवरी माह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में कहा था कि महिला सशक्तिकरण में अंदरुनी मजबूती और आत्मविश्वास पर जोर दिया गया है और देश की महिलाएं आत्मनिर्भर बनी हैं। उन्होंने आगे कहा, देश के विकास में सशक्त और सबल महिलाओं की समान हिस्सेदारी ही न्यू इंडिया का सपना है।

यह भी पढ़ें: ग्रीन गैंग : ये महिलाएं जहां लाठी लेकर पहुंचती हैं, न नेता का फोन काम करता है न दबंग का पैसा

महिलाएं अनाज व्यापारी बन पुरुषों को दे रहीं चुनौती

बिहार में शराब परोसने वाली महिलाएं अब पिला रहीं चाय

Share it
Top