इन्हें कीजिए सलाम ! 87 साल की उम्र में खुद शौचालय बना रहीं यह महिला 

इन्हें कीजिए सलाम ! 87 साल की उम्र में खुद शौचालय बना रहीं यह महिला अपने घर के पास शौचालय बनाने में जुटी राखी देवी।

दिल में जज्बा हो तो उम्र भी आपके आड़े नहीं आ सकती है। यह साबित किया है जम्मू के ऊधमपुर जिले की 87 साल की महिला राखी देवी ने। खुले में शौच मुक्त गाँव बनाने की पहल के साथ राखी खुद अपने हाथों से घर में शौचालय बनाने में जुट गई हैं। इस उम्र में ऐसी लगन को देखकर हर कोई राखी देवी को सलाम कर रहा है।

ऊधमपुर ब्लॉक के बड़ाली पंचायत में राखी देवी रहती है। हाल में इसी गाँव को खुले में शौचमुक्त बनाने के लिए जागरुकता अभियान चलाया गया, जहां राखी देवी ने भी खुले में शौच जाने के दुष्परिणामों के बारे में जाना। मगर राखी देवी के पास इतने रुपये नहीं थे कि वे शौचालय बनवा सकें।

इसके बावजूद गरीब परिवार से संबंध रखने वाली 87 साल की राखी देवी ने शौचालय बनाने की ठानी और खुद ईंट-पत्थर और मिट्टी-गारे की व्यवस्था करने में जुट गईं। राखी ने सबसे पहले जमीन की खुद खोदाई की और फिर ईंट-पत्थर से शौचालय की दीवारें खड़ी कीं।

ये भी पढ़ें- खुले में शौचमुक्त के कारण प्रति परिवार सालाना 50,000 रुपए की बचत

मुझे खुशी है कि अब और लोग अपने घरों में शौचालय बनाने के लिए आगे आ रहे हैं। सभी लोगों को अपने घर के पास शौचालय बनाना चाहिए।
राखी देवी

बुजुर्ग राखी देवी बताती हैं, “मैंने सारी उम्र बिना शौचालय के गुजार दी, खुले में शौच जाने से बीमारियों के बारे में पता चला तो मैंने शौचालय बनाया।“ आगे कहा, “मुझे खुशी है कि अब और लोग अपने घरों में शौचालय बनाने के लिए आगे आ रहे हैं। सभी लोगों को अपने घर के पास शौचालय बनाना चाहिए।“

पत्रकारों से बातचीत में ऊधमपुर ब्लॉक के बीडीओ रूपाली वैद बताती हैं, “87 साल की उम्र में खुद अपने हाथों से शौचालय बनाने का फैसला अपने आप में बहुत बड़ा फैसला है। मुझे खुशी है कि लोग जागरूक हो रहे हैं। राखी देवी कई लोगों की प्रेरणा स्त्रोत बनेगीं। स्वच्छ योजना मिशन के तहत राखी देवी का नाम लाभार्थियों में है, शौचालय निर्माण के बाद उनके खाते में रुपए डाल दिए जाएंगे।“

ये भी पढ़ें- सिर्फ एक दिन में खुले में शौचमुक्त हुआ यूपी का गाँव अकोली 

सोनभद्र : खुले में शौच मुक्त को लेकर 140 किमी की मानव श्रृंखला इंडिया बुक में दर्ज की गई

Tags:    open defecation 
Share it
Top