Top

बुलंदशहर में नाबालिग रेप पीड़िता की मौत: आरोपी का परिवार समझौते के लिए दे रहा था धमकी

यूपी के बुलंदशहर में एक नाबालिग रेप पीड़िता संदिग्ध अवस्था में आग से झुलस गई। जिसकी दिल्ली में इलाज के दौरान मौत हो गई। मृतका के परिवार के अनुसार आरोपी परिवार द्वारा मामले में सुलह-समझौता करने का दवाब था।

Neetu SinghNeetu Singh   17 Nov 2020 4:00 PM GMT

बुलंदशहर में नाबालिग रेप पीड़िता की मौत: आरोपी का परिवार समझौते के लिए दे रहा था धमकीप्रतीकात्मक तस्वीर

यूपी के बुलंदशहर की रहने वाली एक नाबालिग रेप पीड़िता की दिल्ली के एक अस्पताल में मंगलवार शाम इलाज के दौरान मौत हो गयी। पुलिस के अनुसार प्रारंभिक जांच में पीड़ित परिवार पर सुलह समझौता का दवाब बनाया जा रहा था, जिससे तंग आकर आज सुबह पीड़िता ने आग लगा ली। पीड़िता को दिल्ली रेफर किया गया था, जहाँ इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। परिजनों का आरोप है कि रेप के आरोपी के परिजनों ने पीड़िता को जलाया है। पुलिस ने इस संबंध में नामजद 7 लोगों में से 3 को गिरफ्तार कर लिया है। उपनिरीक्षक और एसआई को निलंबित कर दिया गया है, थाना प्रभारी को हटा दिया गया है और क्षेत्राधिकारी (सीओ) को लाइनहाजिर किया गया है।

बुलंदशहर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) संतोष कुमार सिंह ने गाँव कनेक्शन को फोन पर बताया, "15 अगस्त 2020 को एक एफआईआर दर्ज हुई थी जिसमें इस बच्ची के साथ रेप का मामला सामने आया था। नामजद अभियुक्त हरीचंद उर्फ़ चैयटा घटना के बाद से ही जेल में है। कल (सोमवार) रात करीब आठ बजे पीड़िता (17 वर्ष) के चाचा को आरोपी के चाचा संजय और पीड़िता के पड़ोसी गौतम ने समझौता करने की धमकी दी थी। आज दिन के करीब 11 बजे तक प्रारंभिक जांच परिवार और पड़ोसियों के बयान के आधार पर पीड़िता ने खुद आग लगाई थी, अभी दिल्ली में इलाज के दौरान मौत हो गयी है।"

वहीं मृतका के चाचा ने गाँव कनेक्शन को फोन पर बताया, "आज सुबह करीब साढ़े नौ बजे कुछ लोग घर में आये जिन्होंने बच्ची को जला दिया था, किस चीज से जलाया ये हमने देखा नहीं। जब वो बचाओ-बचाओ चिल्लाई तब हम-लोग दौड़े। एकदम से भगदड़ मच गयी, सब भाग गये। पहले बच्ची को थाने ले गये फिर जिला अस्पताल बाद में दिल्ली, अभी उसकी मौत हो गयी है।"

वो आगे कहते हैं, "कल रात साढ़े आठ बजे हमें हमारे पड़ोसी गौतम ने फोन करके कहा था कि समझौता कर लो नहीं तो बहुत पछताओगे। सुबह हमने उनके घर जाकर कहा था कि तुम क्यों पंगा ले रहे हो? जब बच्ची के साथ रेप हुआ था तब भी एक आरोपी नहीं था लेकिन पुलिस ने एक का ही नाम लिखा और उसे ही जेल में बंद किया। बच्ची जब होश में आयी थी उसने दो और लोगों के नाम बताये थे लेकिन पुलिस ने आजतक उन दोनों को पकड़ा ही नहीं।"

गांव कनेक्शन ने पीडि़ता के चाचा के आरोपों को लेकर एसएसपी संतोष कुमार सिंह से पूछा कि पीड़िता के चाचा कह रहे हैं कि कुछ लोगों ने घर में घुसकर पीड़िता को जलाया है इस पर उन्होंने जवाब दिया,, "आज सुबह 11 बजे तक यही सामने आया था कि पीड़िता को धमकी मिली और उसने खुद आग लगा ली। पीड़िता की बड़ी बहन का भी एक वीडियो है जिसमें उसने यही बताया है कि वो सुबह जहाँ गोबर डालते हैं वहां गयी थी तभी उसे धमकी मिली थी कि 'आग लगा लो या समझौता कर लो' वो घर आकर गुमसुम सी बैठी थी। कमरा बंद करके उसके आग लगा ली, जब सबने देखा तो उसपर रजाई डालकर बचाने की कोशिश की गयी।"

बच्ची के साथ रेप हुआ था या गैंगरेप? इस सवाल के जवाब में संतोष कुमार सिंह कहते हैं, "नामजद एक ही आरोपी था उसे ही जेल भेजा गया। आज की ही घटना में पहले पीड़ित परिवार ने बताया कि धमकी के बाद पीड़िता ने खुद आग लगाई, बाद में सात लोगों के नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई है। तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है, बाकियों की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है। उप निरीक्षक, एक सिपाही को निलंबित कर दिया गया है, थाना प्रभारी को हटा दिया गया है। मामले की निष्पक्ष जांच होगी।"

मृतका सात भाई बहनों में पांचवें नम्बर की थी। मृतका के चाचा के अनुसार बच्ची की उम्र 13-14 साल की थी जबकि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने पीड़िता की उम्र 17 वर्ष बताई है। मृतका के परिवार के अनुसार घटना के बाद से ही आरोपी का परिवार, रिश्तेदार कई बार सुलह-समझौता का दवाब बना चुके थे, जान से मारने की लगातार धमकी भी मिल रही थी। जिसके तहत पीड़ित परिवार ने न्यायालय में लिखित प्रार्थना पत्र 156 (3) सीआरपीसी के तहत दे रखा था।

क्या है पूरा मामला

बुलंदशहर के जहांगीराबाद कोतवाली क्षेत्र से लगभग आठ किलोमीटर दूर एक गाँव में रहने वाली इस नाबालिग लड़की के साथ 15 अगस्त 2020 को रेप का मामला सामने आया था। आरोपी पीड़िता के गाँव से लगभग आठ किलोमीटर दूर दूसरे गाँव का रहने वाला है। पहली एफआईआर के अनुसार आरोपी ने पीड़िता के गाँव में एक अमरुद का बाग़ रखवाली के लिए ले रखा था जहाँ 14 अगस्त 2020 को शाम चार बजे पीड़िता अमरुद खरीदने गयी थी। पीड़िता जब घर वापस नहीं लौटी तो परिवार ने खोजबीन शुरू की। दूसरे दिन 15 अगस्त को शाम 5 बजे पीड़िता गन्ने के खेत में बेहोशी अवस्था में मिली थी।

#updating


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.