कमलेश तिवारी के बेटे ने कहा- मुझे प्रशासन पर विश्‍वास नहीं, NIA करे जांच

कमलेश तिवारी के बेटे ने कहा- मुझे प्रशासन पर विश्‍वास नहीं, NIA करे जांच

लखनऊ। हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या के आरोप में तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। कमलेश तिवारी के बेटे सत्‍यम तिवारी ने इन गिरफ्तारियों पर सवाल खड़े किए हैं। सत्यम तिवारी ने कहा है कि उन्हें नहीं पता है कि जो लोग पकड़े गए हैं उन्हीं लोगों ने पिता को मारा है या निर्दोष लोगों को फंसाया जा रहा है। सत्यम तिवारी ने यह भी कहा कि 'मुझे इस प्रशासन पर कोई विश्वास नहीं है।'

सत्यम तिवारी ने आगे कहा, 'अगर यही लोग असली दोषी हैं और इनके खिलाफ कोई वीडियो सबूत है तो वो सामने रखा जाए। साथ ही इसकी जांच एनआईए (NIA) को करनी चाहिए।

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने शनिवार को संवाददाता सम्मेलन में बताया कि पुलिस और गुजरात पुलिस की संयुक्त टीम ने सूरत से तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया है। इनसे पूछताछ की जा रही है। उन्होंने बताया कि पकड़े गए तीन संदिग्धों के नाम मौलाना मोहसिन शेख सलीम (24), फैजान (30) और खुर्शीद अहमद पठान (30) हैं। तीनों सूरत के रहने वाले हैं।

डीजीपी ने कहा कि अब तक इस हत्याकांड का आतंकवाद से संबंध होने का संकेत नहीं मिला है। प्रारंभिक पूछताछ से लगता है कि 2015 में कमलेश तिवारी द्वारा दिया गया एक भाषण उनकी हत्या की वजह हो सकता है।

गौरतलब है कि राजधानी लखनऊ के घनी आबादी वाले नाका हिंडोला इलाके में शुक्रवार को हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाडे़ हत्या कर दी गयी। पुलिस के अनुसार, कमलेश तिवारी नाका हिंडोला कि खुर्शेदबाग स्थित अपने घर में खून से लथपथ पाए गए। उन्होंने बताया कि दो लोग उनसे मिलने आए थे। इस दौरान कमलेश ने अपने एक साथी को उन दोनों के लिए पान लाने भेजा था। जब वह लौटकर आया तो उसने कमलेश को खून से लथपथ हालत में पाया। कमलेश पूर्व में हिंदू महासभा से भी जुड़े थे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top