कन्नूर में आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या मामले में भाजपा की अफस्पा की मांग, मुख्यमंत्री ने नकारा 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   13 May 2017 4:02 PM GMT

कन्नूर में आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या मामले में भाजपा की अफस्पा की मांग, मुख्यमंत्री ने नकारा प्रतीकात्मक चित्र

कन्नूर/तिरुवनंतपुरम (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक पदाधिकारी की बेरहमी से काटकर हत्या किए जाने के एक दिन बाद शनिवार को कन्नूर में सशस्त्र बल (विशेष शक्तियां) अधिनियम (अफस्पा) लागू करने की मांग की है। वहीं मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने कहा कि इस तरह की घटना कभी-कभार होती है और उन्होंने भाजपा की मांग को दरकिनार कर दिया।

शुक्रवार शाम आरएसएस के पदाधिकारी बीजू की कन्नूर के पयनूर में बेरहमी से काटकर हत्या कर दी गई थी। कन्नूर केरल का वह इलाका है, जहां राजनीतिक हत्याएं आम हो चली हैं। प्रदेश भाजपा ने हत्या के लिए सत्तारूढ़ मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) को जिम्मेदार ठहराया है, वहीं वाम दल ने आरोपों से इनकार किया है।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

कन्नूर जिला शनिवार को पूरी तरह बंद रहा। अब तक बंद शांतिपूर्ण है और दुकानें, बाजार तथा प्रतिष्ठान बंद हैं और सार्वजनिक वाहन सड़कों से नदारद हैं।

राज्य में भाजपा के एकमात्र विधायक ओ.राजगोपाल तथा पार्टी नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार को राज्यपाल पी.सदाशिवम से मिला और कन्नूर में अफस्पा लगाने की मांग की।

आज की तारीख में केरल पुलिस माकपा का एक संगठन बन चुका है और लोगों की जान तथा संपत्ति की रक्षा करने में वह बुरी तरह नाकाम है।
ओ.राजगोपाल विधायक भाजपा

उन्होंने तिरुवनंतपुरम में संवाददाताओं से कहा, "पुलिस और माकपा के नेताओं की हमेशा सांठगांठ होती है। माकपा नेता पुलिस को निर्देश देते हैं। कन्नूर में शांति वापस लाने का एक ही तरीका है, यहां अफस्पा लागू करना।"

राजगोपाल ने कहा, "कन्नूर के लिए अच्छी बात यह है कि यहां सेना का एक शिविर है और हमने राज्यपाल से आग्रह किया है कि वह अफस्पा लागू करने की संभावनाओं पर विचार करें।"

हत्या की घटना में पुलिस ने सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। जांच के दौरान पुलिस ने पाया है कि घटना को चार लोगों के एक गिरोह ने अंजाम दिया, जो एक इनोवा कार से आए थे।

जिस वक्त घटना घटी, बीजू तथा उनके मित्र दोपहिया से कहीं जा रहे थे, इसी दौरान इनोवा कार ने उन्हें टक्कर मारी, जिसमें वे जमीन पर गिर पड़े और फिर उन्हें बेरहमी से काटकर मार डाला गया।

जुलाई 2016 में माकपा के एक कार्यकर्ता की हत्या के मामले में बीजू जमानत पर था और वह मामले का 12वां आरोपी था। शनिवार को कन्नूर पहुंचे विजयन ने संवाददाताओं से कहा कि एक सर्वदलीय बैठक में राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता को लेकर चर्चा हुई है, उसके बाद से माहौल शांत है।

विजयन ने कहा, "शुक्रवार की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है और इस तरह की घटना कभी-कभार घटती है।"
प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने कन्नूर में घट रही घटनाओं के लिए माकपा तथा भाजपा दोनों को ही जिम्मेदार ठहराया।

कन्नूर में जो कुछ भी हो रहा है, इसके लिए यही दोनों पार्टियां जिम्मेदार हैं और उन्हीं को इसका समाधान निकालना है।
ओमन चांडी पूर्व मुख्यमंत्री

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top