तेलंगाना के करीमनगर में गरीबों को एक रुपये में मिलेगी अंतिम संस्कार की सुविधा

मध्यम और कम आय वाले समूह के लोग अंतिम संस्कार के लिये सिर्फ एक रुपया भुगतान कर इस सुविधा का लाभ ले सकते हैं, यह योजना किसी की जाति या धर्म से इतर सभी के लिये होगी

तेलंगाना के करीमनगर में गरीबों को एक रुपये में मिलेगी अंतिम संस्कार की सुविधाप्रतीकात्मक तस्वीर साभार: इंटरनेट

करीमनगर (तेलंगाना)। गरीबों के लिए सम्मानजनक अंतिम संस्कार की सुविधा सुनश्चिति करने के लिये तेलंगाना के करीमनगर शहर का नगर निगम अगले महीने एक योजना शुरू करेगा, जिसके तहत कोई भी गरीब महज एक रुपये में अंतिम संस्कार की सुविधा पा सकता है।

करीमनगर के महापौर एस रवींद्र सिंह के अनुसार, 'अंतिम यात्रा आखिरी सफर योजना' 15 जून को शुरू की जायेगी और इस पहल के मद में पहले ही 1.10 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की जा चुकी है। योजना में यह ख्याल रखा जायेगा कि मृतक का अंतिम संस्कार धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हो। सिंह ने पीटीआई को बताया, मध्यम और कम आय वाले समूह के लोग अंतिम संस्कार के लिये सिर्फ एक रुपया भुगतान कर इस सुविधा का लाभ ले सकते हैं। यह योजना किसी की जाति या धर्म से इतर सभी के लिये होगी।

ये भी पढ़ें: सेना के इस पूर्व जवान का काम देख, आप भी करेंगे सलाम

योजना के तहत शहर का नगर निगम मृतक के अंतिम संस्कार के लिये उसके परिजन को लकड़ी, चंदन की लकड़ी का टुकड़ा और केरोसिन देगा। महापौर ने बताया कि लकड़ी खरीदने के लिये 50 लाख रुपये का सुरक्षित कोष उपलब्ध है। यह शहर हैदराबाद से 164 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। सिंह ने बताया कि अंतिम संस्कार के दिन उसमें हिस्सा लेने वाले करीब 50 लोगों को पांच रुपये प्रति व्यक्ति की दर से भोजन की सुविधा उपलब्ध होगी। शव को दफनाने की इच्छा रखने वालों के लिये भी आवश्यक इंतजाम होंगे।

ये भी पढ़ें: फेसबुक की मदद से मुसहर बच्चों की अशिक्षा को पटखनी दे रहा कुश्ती का ये कोच


इस कदम का उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने समर्थन किया है। उन्होंने ट्वीट किया, सिर्फ एक रुपया भुगतान कर अंतिम संस्कार की सुविधा योजना अंतिम यात्रा को 15 जून से शुरू करने के प्रस्ताव के लिये तेलंगाना के करीमनगर नगर निगम को बधाई। खुशी है कि शोक संतप्त परिवार के 50 सदस्यों को भोजन भी उपलब्ध कराया जायेगा। यही मानवता है। इस योजना के लिये महापौर की तारीफ करते हुए नायडू ने कहा, मृतक का पूरे सम्मान के साथ और परंपराओं के अनुसार अंतिम संस्कार करना महत्वपूर्ण है।

ये भी पढ़ें:"नदी के किनारे जन्म लेना हमारे लिए गुनाह साबित हो रहा है"

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top