कश्मीर मुद्दा दक्षिण एशिया में शांति के लिए ‘‘मुख्य बाधा’’ : पाकिस्तान

कश्मीर मुद्दा दक्षिण एशिया में शांति के लिए ‘‘मुख्य बाधा’’ : पाकिस्तानभारत-पाकिस्तान सीमा पर मुस्तैदी से तैनात जवान। फाइल फोटो

वाशिंगटन (भाषा)। पाकिस्तान के वित्त मंत्री मोहम्मद इशाक डार ने कश्मीर मुद्दे को दक्षिण एशिया में शांति के लिए ‘‘मुख्य बाधा'' बताते हुए आज कहा कि यह वैश्विक समुदाय की जिम्मेदारी है कि वह इस क्षेत्र के ‘‘ज्वलंत मुद्दे'' पर काम करें। डार ने शीर्ष अमेरिकी थिंक टैंक हेरिटेज फाउंडेशन में पाकिस्तानी अमेरिकी, अधिकारियों और राजनयिकों से कहा, ‘‘मुझे लगता है कि क्षेत्रीय शांति के लिए इस क्षेत्र के ज्वलंत मुद्दे पर काम करने की जिम्मेदारी वैश्विक समुदाय की है। दशकों के लिए यह उत्कृष्ट है।

डार ने कहा कि मैं विवरणों में नहीं जाउंगा लेकिन आप में से हर कोई यह जानता है कि गत कुछ महीनों में क्या हुआ है।'' आईएमएफ और विश्व बैंक की वार्षिक बैठक में भाग लेने यहां आए डार ने कहा, ‘‘अगर हम कश्मीर मुद्दा हल कर सकें तो इस क्षेत्र में काफी शांति देखी जा सकती है। इससे रक्षा क्षेत्र में बड़े खर्चे को बचाया जा सकता है और उसे सामाजिक क्षेत्र में निवेश की ओर लगाया जा सकता है और यह वास्तविक संपर्क बन सकता है जो इस क्षेत्र को मिलना चाहिए।''

पाकिस्तानी वित्त मंत्री ने इस क्षेत्र में विश्व की आधी आबादी का जिक्र करते हुए कहा कि कश्मीर मुद्दा इस क्षेत्र में शांति की राह में ‘‘मुख्य बाधा'' है। डार ने कहा कि पाकिस्तान ने 2030 तक जी-20 का सदस्य बनने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य तय किया है। अफगानिस्तान पर बात करते हुए डार ने खेद जताया कि कुछ देश युद्धग्रस्त देश में शांति प्रक्रिया पर पाकिस्तान की मंशा पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अब भी अफगान युद्ध के बाद की त्रासदी से जूझ रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के परमाणु हथियार क्षेत्रीय शांति के लिए आवश्यक हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हमारी सरकार शांति और पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंधों में भरोसा करती है।'' एक सवाल पर डार ने कहा कि परमाणु हथियारों पर पाकिस्तान की पहुंच और नियंत्रण व्यवस्था काफी मजबूत और पूरी तरह से सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय एजेंसियां पाकिस्तान के परमाणु प्रतिष्ठानों की सुरक्षा से संतुष्ट है। उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान के इतिहास में एक भी अप्रिय घटना नहीं रही। पाकिस्तान के परमाणु हथियार सुरक्षित है जितने की दुनिया में कहीं भी हो सकते हैं।

मैं आसानी से कह सकता हूं कि यह अमेरिका की तरह ही सुरक्षित हैं।'' डार ने दावा किया कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दोनों देशों के बीच कश्मीर मुद्दा सुलझाने के लिए पाकिस्तान प्रधानमंत्री से की गई बातचीत ‘‘सकारात्मक या प्रोत्साहित'' करने वाली थी। उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान इस मुद्दे को सुलझाने के लिए किसी भी मित्र का स्वागत करता है।' वित्त मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच नहीं देगा। जाधव को जासूसी के दोष में पाकिस्तान की एक अदालत ने मौत की सजा दी है। उन्होंने कहा, ‘‘जो भी हुआ वह पाकिस्तान के कानून और संविधान के अनुसार हुआ।''

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top