Top

किसान मुक्ति मार्च: तस्वीरों में देखें किसानों का मार्च

दो सौ से ज्यादा किसान-मजदूर संगठनों के बैनर तले हजारों किसान आए हैं, इस बार दिल्ली आ रहे किसान सरकार से ये मांग कर रहे हैं कि खेती-किसानी से जुड़ी समस्या पर चर्चा करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाया जाए

Chandrakant MishraChandrakant Mishra   29 Nov 2018 10:31 AM GMT

किसान मुक्ति मार्च: तस्वीरों में देखें किसानों का मार्च

नई दिल्ली। एक बार फिर दिल्ली में किसानों का मार्च शुरू हो गया है। इस बार देश भर से किसान दिल्ली पहुंचे हैं। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर दो सौ से ज्यादा किसान-मजदूर संगठनों के बैनर तले हजारों किसान आए हैं। इस बार दिल्ली आ रहे किसान सरकार से ये मांग कर रहे हैं कि खेती-किसानी से जुड़ी समस्या पर चर्चा करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाया जाए जो कि 20 दिनों का हो।

ये भी पढ़ें: किसान मुक्ति मार्च: पी साईनाथ ने कहा, किसानों की समस्याओं पर संसद में विशेष सत्र बुलाई जाए


शाम तक सभी किसान किसान मार्च करते हुए रामलीला मैदान में इकट्ठा होंगे। आंध्र प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और तेलंगाना से आने वाले किसान निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के पास मौजूद गुरुद्वारा पहुंचे जहां से 11.30 बजे मार्च रामलीला मैदान की ओर निकल चुके हैं। कुछ किसान रामलीला मैदान पहुंच भी चुके हैं।



ये भी पढ़ें: क्‍या किसानों के गुस्‍से की आग से जली है ये धान की ट्रॉली?


स्वराज इंडिया से जुड़े बंगाल, बिहार, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ के किसान दिल्ली पहुंचे हैं। पंजाब, हरियाणा और आसपास के अन्य राज्यों के आंदोलनकारी भी इस आंदोलन में शामिल हो रहे हैं। रामलीला मैदान में गुरुवार की शाम को किसानों के लिए 'एक शाम किसानों के नाम' सांस्कृतिक संध्या का आयोजन होगा।




किसान मार्च को लेकर दिल्ली पुलिस ने किसानों को रामलीला ग्राउंड तक आने की अनुमति दी है। दिल्ली पुलिस का कहना है कि रामलीला ग्राउंड तक किसान जैसे चाहे वैसे आ सकते हैं। उसके आगे जाने की इजाजत के लिए पुलिस के आला अधिकारियों की बातचीत हो रही है। गुरुवार को सुबह ही दिल्ली पुलिस साफ करेगी कि किसानों को कहां तक जाने दिया जाएगा।


ये भी पढ़ें: किसान मुक्ति मार्च: मोदी सरकार से आर पार की लड़ाई को दिल्‍ली पहुंच रहे किसान






Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.