घुड़सवारी खेलों में महिला और पुरूष खिलाड़ी एक साथ ले सकते हैं भाग, जानिए इस खेल से जुड़ी 5 रोचक बातें 

घुड़सवारी खेलों में महिला और पुरूष खिलाड़ी एक साथ ले सकते हैं भाग, जानिए इस खेल से जुड़ी 5 रोचक बातें 

क्या आपको मालूम है कि पहले अोलंपिक खेलों में घुड़सवारी प्रतिस्पर्धा में ऊंची कूद और लंबी कूद प्रतियोगिताएं भी होती थी ? जानिए इस खेल से जुड़ी पांच रोचक बातें -

एशिया में सबसे शुरू हुई घुड़सवारी

घुड़सवारी लगभग 5,000 वर्षों से की जा रही है, वैज्ञानिक खोजों के अनुसार घुड़सवारी सबसे पहले एशियाई शहर सुसा से शुरू हुई थी।

एशिया में हुई थी घुड़सवारी की शुरूआत।

यूरोप से उत्तरी अमेरिका में घोड़ों को लाए थें क्रिस्टोफर कोलंबस

पुराने समय में उत्तर अमेरिका में घोड़े नहीं पाए जाते थे, वर्ष 1492 में क्रिस्टोफर कोलंबस अमेरिकी महाद्वीप में यूरोप से घोड़े लाकर घुड़सवारी की शुरूआत की। इसके बाद वहां पर घुड़सवारी का चलन बढ़ा।

ओलंपिक खेलों में सन् 1900 में हुई थी घुड़सवारी की शुरूआत

घुड़सवारी की शुरूआत में, घोड़े की पीठ पर सैनिक या योद्धा ही सवार होते थे या फिर यह सामान्य रूप से लोगों के लिए परिवहन का एक साधन था। आज, घुड़सवारी मुख्य रूप से मनोरंजन और खेल का एक हिस्सा ही है। ओलंपिक खेलों में घुड़सवारी खेल प्रतिस्पर्धा की शुरूआत सन् 1900 में हुई थी।

ओलंपिक 1912 में घुड़सवारी प्रतियोगिता में भाग लेता खिलाड़ी।

घुड़सवारी प्रतिस्पर्धा में होती थी ऊंची और लंबी कूद प्रतियोगिताएं

अोलंपिक खेलों में घुड़सवारी की शुरूआत में घुड़सवारी (लंबी कूद) और घुड़सवारी (ऊंची कूद) प्रतियोगिता भी होती थी, लेकिन अब घुड़सवारी में इन स्पर्धा को हटा दिया गया है।

महिला व पुरूष खिलाड़ी एक साथ लेते हैं भाग

विश्व में घुड़सवारी और नौकायन ही ऐसे दो खेल हैं , जिनमें महिला व पुरूष खिलाड़ी एक साथ भाग ले सकते हैं। ओलंपिक खेलों की श्रेणी में घुड़सवारी खेलों में ही जानवरों का इस्तेमाल किया जाता है।

घुड़सवारी खेल ।

Share it
Share it
Share it
Top