जानिए क्या है आम बजट और अंतरिम बजट में फ़र्क?

जानिए क्या है आम बजट और अंतरिम बजट में फ़र्क?

अमूमन जब बजट पेश होता है, तो उसे 'आम बजट' कहा जाता है। लेकिन, इस साल पेश हुए बजट को 'अंतरिम बजट' कहा जा रहा है। कई लोगों के मन में भ्रम की स्थिति पैदा हो चुकी है, क्योंकि लोगों को आम बजट और अंतरिम बजट के बीच का फर्क नहीं मालूम। दरअसल, अंतरिम बजट और आम बजट, होते तो दोनों ही बजट हैं लेकिन इन दोनों में बहुत बड़ा फर्क होता है। अगर आपको यह फर्क नहीं मालूम तो चलिए हम आपको समझाते हैं।

क्या है आम बजट?

भारतीय संविधान के मुताबिक, केंद्र सरकार हर साल पूरे एक वित्तीय वर्ष का लेखा जोखा पेश करती है, इसे आम बजट कहा जाता है। इसे यूनियन बजट भी कहा जाता है। आम बजट हर साल 1 फरवरी को लोकसभा में पेश किया जाता है। आमूमन, आम बजट में सरकार की आर्थिक नीति की दिशा दिखाई पड़ती है। इस बजट में इसमें मंत्रालयों को उनके खर्चों के लिए पैसे का आवंटित होते हैं। साथ ही, आने वाले साल के लिए मोटे तौर पर कर प्रस्तावों का ब्योरा पेश किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: Union Budget 2019 : किसानों और पशुपालकों के लिए हुईं कई बड़ी घोषणाएं

क्या है अंतरिम बजट?

आम बजट के अलावा, अंतरिम बजट का ज़िक्र भी संविधान में मौजूद है। अंतरिम बजट पूरे वित्तीय वर्ष का नहीं, बल्कि कुछ महीनों या कुछ दिनों का ही होता है। इसे मिनी बजट भी कहा जाता है। अंतरिम बजट चुनावी साल में पेश किया जाता है। जिस साल लोकसभा चुनाव होने होते हैं, उसी साल अंतरिम बजट पेश होता है। इसमें नई सरकार बनने तक का राजस्व का लेखा जोखा शामिल किया जाता है। साल 2019 में लोकसभा चुनाव के कारण ही इस बार अंतरिम बजट पेश किया गया है। अंतरिम बजट और आम बजट में एक बड़ा फर्क ये भी है कि अंतरिम बजट में महज़ ज़रूरी और छोटे खर्च का प्रावधान किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: बजट में किसानों को तोहफा: किसानों को हर साल मिलेंगे 6000 रुपए

Share it
Top