लालू का पलटवार - नीतीश राजनीति के पलटूराम, सत्ता के लिए कुछ भी करेंगे

लालू का पलटवार - नीतीश राजनीति के पलटूराम, सत्ता के लिए कुछ भी करेंगेराष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव।

लखनऊ । बिहार में महागठबंधन की सरकार टूटने के बाद सोमवार को पहली बार मीडिया से मुखातिब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद पर लग रहे आरोपों का जवाब दिया। साथ ही महागठबंधन टूटने का ठीकरा राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के सिर पर फोड़ा।

इसके बाद मंगलवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने पलटवार में नीतीश कुमार की जमकर खबर ली। लालू ने नीतीश कुमार को राजनीति का पलटूमार बताते हुए कहा कि ये सत्ता के लिए कुछ भी करेंगे। जिस शरद यादव ने नीतीश कुमार को आगे बढ़ाया, आज उनकी भी कद्र नहीं की जा रही है।

ये भी पढ़ें- नीतीश-भाजपा की खिचड़ी तो काफी पहले से पक रही थी, ठगे गए लालू

इससे पहले नीतीश ने सोमवार को राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने एक के बाद एक कई ट्वीट करके नीतीश पर वार किए। लालू ने प्रधानमंत्री मोदी की स्टाइल में पूछा - मित्रों, क्या हत्या जैसे संगीन जुर्म में आरोपित मुख्यमंत्री को कुर्सी पर बैठने का नैतिक अधिकार है जहाँ केस ही सीएम वर्सेस स्टेट ऑफ बिहारी हो?

सोमवार को ही नीतीश कुमार ने भी मीडिया के सामने आकर महागठबंधन से नाता तोड़ने और बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के कारणों को बताया था। उन्होंने तेजस्वी यादव और लालू प्रसाद यादव पर जमकर वार किए थे। उन्होंने कहा कि जेडीयू की नीति रही है कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं। हमारा तेजस्वी से कहना था कि वह अपने मामले में सफाई दें लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

ये भी पढ़ें- नीतीश कुमार : इंजीनियरिंग के स्टूडेंट से बिहार के 6 बार मुख्यमंत्री तक, जानिए 11 बड़ी बातें

नीतीश ने कहा लालू अपने बेटे का बचाव करते रहे. मेरे ऊपर सवालिया निशान थे। फर्जी कंपनियों के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं थी। तेजस्वी से मुलाकात में भी मैंने कहा था कि आरोपों पर सफाई दें लेकिन वे सीबीआई के आरोपों पर सफाई देने को तैयार नहीं थे।

Share it
Top