लोहे के फंदे में फंसा तेंदुआ, गांववालों ने बचाया

लोहे के फंदे में फंसा तेंदुआ, गांववालों ने बचायाप्रतीकात्मक , साभार इंटरनेट

जम्मू में लोहे के फंदे में फंसे एक घायल तेंदुए को स्थानीय नागरिकों की सूझबूझ से बचा लिया गया। घटना मंगलवार दोपहर की है जब जम्मू के नड ब्लॉक के गांव सलेतर में एक खड्ड के किनारे लोगों को तेंदुए की आवाजें सुनाई दीं।

आवाजें सुनकर पहले तो लोगों में अफरा-तफरी मच गई लेकिन कुछ लोगों ने हिम्मत जुटाकर खड्ड में झांका तो वहां उन्हें लोहे के शिकंजे में फंसा तेंदुआ दिखाई दिया। लोगों ने वन्य जीव विभाग को सूचित किया। विभाग की टीम दोपहर बाद मौके पर पहुंची और तेंदुए को निकालने की कोशिशें शुरु कर दीं। देर शाम उन्हें कामयाबी मिल गई। घायल तेंदुए को जम्मू के मांडा वन्य जीव अभ्यारण्य ले जाया गया। यहां उसके घायल पंजे का इलाज भी होगा।

यह भी देखें : मध्य प्रदेश में 60 फुट गहरे कुएं से तेंदुए को बचाया गया

यह भी देखें : बिजली के खंभे पर लटका मिला तेंदुए का शव

स्थानीय लोगों के मुताबिक, गांव वाले अपनी फसलों को जंगली जानवरों से बचाने के लिए खेत के किनारे खड्डों में लोहे के फंदे या शिकंजे लगा देते हैं। यह तेंदुआ पानी पीने आया होगा और शिकंजे में फंस गया। कुछ दिन पहले जम्मू के वीरपुर इलाके में भी एक तेंदुआ फंदे में फंस गया था, लेकिन तब उसकी मौत हो गई थी। नड ब्लॉक के पहाड़ी गांवों में तेंदुओं का आंतक कई बरसों से बना हुआ है और इस दौरान वे कुत्तों, बकरियों, दूसरे पालतू जानवरों समेत कई जीवों का मार चुके हैं। स्थानीय निवासियों से भी इनका आमना-सामना होता रहता है।

इसी तरह की एक घटना 23 दिसंबर को यूपी के प्रतापगढ़ जिले में हुई थी। लेकिन यहां गांववालों ने सूखे कुएं में फंसे तेंदुए पर पुआल डालकर आग लगा दी थी। घटना में तेंदुए की मौत हो गई थी। बाद में पुलिस ने वनरक्षक की तहरीर पर पूरे गांव पर मुकदमा कर दिया था।

यह भी देखें : वन्य जीवों को बचाने के लिए वो जंगलों में बेखौफ घूमती है, देखिए तस्वीरें

यह भी देखें : जानवर कौन है? हम या वो

Share it
Share it
Share it
Top