विधानसभा चुनाव EXIT POLL:  गुजरात व हिमाचल में भाजपा की बड़ी जीत का अनुमान

विधानसभा चुनाव EXIT POLL:  गुजरात व हिमाचल में भाजपा की बड़ी जीत का अनुमानएग्जिट पोल का नतीजा सामने।

गुजरात और हिमाचल के विधानसभा चुनावों को लेकर एग्जिट पोल में बीजेपी की बड़ी जीत का अनुमान सामने आया है। हालांकि कांग्रेस की सीटों में कुछ सुधार होता हुआ दिख रहा है लेकिन हार्दिक पटेल फैक्टर से जिस फायदे की बात कांग्रेस के लिए की जा रही थी वो करिश्मा होता हुआ दिखा नहीं।

न्यूज 24-टुडेज चाणक्य के एग्जिट पोल के मुताबिक गुजरात में बीजेपी को 135 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 47 सीटें मिल सकती हैं। वहीं सहारा-सीएनएक्स के एग्जिट पोल के मुताबिक गुजरात में बीजेपी को 110-120 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 65-75 सीटें मिल सकती हैं। एबीपी-सीएसडीएस के एग्जिट पोल के मुताबिक गुजरात में बीजेपी को 117 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 64 सीटें मिल सकती हैं।

इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया के एग्जिट पोल के मुताबिक गुजरात में बीजेपी को 99-113 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 68-82 सीटें मिल सकती हैं। सी-वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक गुजरात में बीजेपी को 108 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 74 सीटें मिल सकती हैं। टाइम्स नाउ-वीएमआर के एग्जिट पोल के मुताबिक गुजरात में बीजेपी को 109 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 70 सीटें मिल सकती हैं।

वहीं सी-वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को 41 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 25 सीटें मिल सकती हैं। इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया के एग्जिट पोल के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को 47-55 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 13-20 सीटें मिल सकती हैं। न्यूज 24-टुडेज चाणक्य के एग्जिट पोल के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को 55 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 13 सीटें मिल सकती हैं।

एबीपी-सीएसडीएस के एग्जिट पोल के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को 38 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 29 सीटें मिल सकती हैं। टाइम्स नाउ-वीएमआर के एग्जिट पोल के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को 51 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 16 सीटें मिल सकती हैं।

चुनाव आयोग की ओर से नतीजों की घोषणा 18 दिसंबर को की जाएगी। उसी दिन हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 के नतीजे भी आएंगे।

एग्जिट पोल के जरिए यह अनुमान लगाने की कोशिश होगी कि राज्‍य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वोटर्स की पहली पसंद बने हुए हैं या नहीं। अगर नतीजे भाजपा के खिलाफ और कांग्रेस के पक्ष में आते हैं तो यह पार्टी के नए अध्‍यक्ष राहुल गांधी को भारत की चुनावी राजनीति में नए सितारे के रूप में पेश करेगा।

गुजरात के नतीजों का असर बहुत हद तक 2019 के आम चुनाव पर भी पड़ने का अनुमान विशेषज्ञ लगा रहे हैं। राज्‍य में भाजपा की जीत पीएम मोदी और ताकत मुहैया कराएगी। केंद्र सरकार द्वारा सुधारों को और आक्रामकता से पेश किया जा सकता है। हार किसी बड़े झटके से कम नहीं होगी। गुजरात में बीजेपी की हार का मतलब पार्टी के चुनावी तंत्र का अस्‍त-व्‍यस्‍त होना होगा और फिर भाजपा को 2019 में जीत के लिए पूरी ताकत झोंकनी पड़ेगी।

ये भी पढ़ें- गुजरात विधानसभा चुनाव में भाजपा हारेगी, कांग्रेस को करीब 100 सीटें मिलने की संभावना : हार्दिक पटेल

वहीं कांग्रेस के लिए जीत पार्टी और राहुल गांधी के लिए संजीवनी का काम करेगी। कांग्रेस अध्‍यक्ष ने खुद चुनाव प्रचार की कमान संभाली और गुजरात के विभिन्‍न इलाकों में जनसंपर्क किया। कांग्रेस की तरफ से राहुल ही प्रचार का चेहरा रहे। उन्‍होंने आक्रामक अंदाज में प्रचार तो किया ही, ट्विटर पर उनकी सक्रियता और हाजिरजवाबी ने सोशल मीडिया पर कई समर्थक बटोरे। अगर गुजरात में कांग्रेस जीतती है तो राहुल विपक्ष का वह चेहरा बन सकते हैं जिसके सहारे मोदी को 2019 में हराने की तैयारी चल रही है। अभी एग्जिट पोल्‍स नहीं आए हैं मगर ओपिनियन पोल्‍स में भाजपा को जीत मिलती दिखाई गई है, मगर कांग्रेस उसे कड़ी टक्‍कर देती दिखी है।

गुजरात के नतीजों का असर संसद की कार्यवाही पर देखने को भी मिलेगा। अगर भाजपा गुजरात व हिमाचल प्रदेश में जीत दर्ज करती है तो राहुल गांधी को चुनाव के दौरान उठाए गए मुद्दों पर भाजपा को घेरना मुश्किल हो जाएगा। लेकिन अगर कांग्रेस हिमाचल में हारने के बाद भी गुजरात में जीत दर्ज करती है तो, विपक्षी पार्टी ऐसे मुद्दे उठा सकती है, जो राजनीतिक तापमान बढ़ाएंगे। एक माह तक चलने वाला शीतकालीन सत्र प्राय: नवंबर के अंतिम सप्ताह में शुरू होता है और क्रिसमस से पहले समाप्त हो जाता है। इस वर्ष शीत सत्र 15 दिसंबर से पांच जनवरी तक चलेगा। क्रिसमस की वजह से 25 व 26 दिसंबर को छुट्टी रहेगी।

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान अगर वास्तव में गुजरात चुनाव में ‘दखल देते’ पाया गया है तो उस पर हमला कर देना चाहिए : शिवसेना

2012 में 182 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा लगातार तीसरी बार सत्ता पर काबिज़ हुई थी। 2012 में भी वहां दो चरणों में 13 और 17 दिसंबर को चुनाव हुआ था। पहले चरण में 87 और दूसरे चरण में 95 सीटों के लिए मतदान हुआ था। 2012 में गुजरात में 70 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ था।

अगर बात करें 2012 के विधानसभा चुनाव की नरेंद्र मोदी की अगुवाई में लड़ा गया यह चुनाव विकास और सॉफ्ट हिुंदुत्व के एजेंडे पर ही लड़ा गया था. कांग्रेस यहां बुरी तरह से पस्त हुई थी. कांग्रेस अपनी रणनीति में पूरी तरह से फेल नजर आई थी. इसी चुनाव के बाद से ही मोदी प्रधानमंत्री पद के दावेदार बन गए थे.

किसको आई थीं कितनी सीटें

  • भारतीय जनता पार्टी- 119
  • कांग्रेस- 57
  • गुजरात परिवर्तन पार्टी- 2
  • अन्य- 1
  • जनता दल युनाइटेड- 1
  • एनसीपी-2
  • कुल- 182 सीटें
  • अभी क्या है विधानसभा स्थिति
  • बीजेपी-118
  • कांग्रेस-43
  • खाली- 15
  • जेडीयू- 1
  • जीपीपी- 2
  • एनसीपी- 202

गुजरात विधानसभा चुनाव- 2007 परिणाम

  • पार्टी--- जीत--- मत(प्रतिशत में)
  • भाजपा---117---49.12
  • कांग्रेस---59---38.00
  • एनसीपी---03---1.05
  • जेडी (यू)---1---0.66
  • निर्दलीय---2---6.61

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.