इन आठ मांगों के लिए राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर हैं 56 ग्रामीण बैंकों के एक लाख कर्मी  

इन आठ मांगों के लिए राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर हैं 56 ग्रामीण बैंकों के एक लाख कर्मी  हड़ताल

लखनऊ। ग्रामीण बैंक कर्मियों के राष्ट्रीय स्तर पर बने साझा मंच यूनाइटेड फोरम ऑफ आरआरबी यूनियन के आह्वान पर देशभर के 56 ग्रामीण बैंकों में कार्यरत एक लाख ग्रामीण बैंककर्मी अपनी आठ सूत्रीय मांगों को लेकर 26 से 28 मार्च तक तीन दिनों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर हैं। इस कारण 2 अप्रैल तक लगातार इन बैंकों का सामान्य कामकाज ठप रहेगा। आज हड़ताल का दूसरा दिन है।

ये भी पढ़ें- सरकारी बैंकों का निजीकरण समस्या का हल नहीं : उद्योग जगत  

ग्रामीण बैंक ऑफ आर्यावर्त अधिकारी एसोसिएशन लखनऊ के चेयरमैन राकेश कुमार शुक्ल एवं अध्यक्ष आशुतोष कुमार सिंह ने बताया कि इस महीने की 24 और 25 मार्च को बैंकों के नियमित अवकाश रहे। जबकि 26 से 28 मार्च की हड़ताल, 29 मार्च को महावीर जयंती, 30 मार्च को गुड फ्राइडे, 31 मार्च को हजरत अली का जन्मदिवस, 1 अप्रैल को रविवार एवं 2 अप्रैल को बैंकों की वार्षिक लेखाबंदी रहेगी। इस प्रकार इन बैंकों का लगातार 10 दिनों तक कामकाज ठप रहेगा।

ये भी पढ़ें- आज और कल में निपटा लें बैंक से जुड़े काम, अगले पांच दिनों तक नहीं कर पाएंगे लेन-देन

दोनों नेताओं ने बताया कि आठ सूत्रीय मांगों को लेकर अनेक आन्दोलनात्मक कार्यक्रम किए गए। 20 मार्च 2018 को कर्मचारियों ने संसद मार्च का कार्यक्रम नई दिल्ली में किया। कर्मचारी नेता, सांसद डी. राजा ने नेतृत्व में वित्तमंत्री अरुण जेटली से भी उसी दिन मिले। केंद्रीय श्रम आयुक्त के समक्ष भी मामला ले जाया गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई, जिस कारण हड़ताल के लिए विवश होना पड़ा।

ये भी पढ़ें- धूम्रपान करता जंगली हाथी, वैज्ञानिकों-विशेषज्ञों में कौतूहल 

ग्रामीण बैंक कर्मियों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल के यह वो आठ सूत्रीय मांग

  1. भारत सरकार कर्नाटक एवं राजस्थान उच्च न्यायालयों के निर्णयों का सम्मान करते हुए सुप्रीम कोर्ट में दायर एसएलपी को वापस लेकर देश के ग्रामीण बैंक कर्मचारियों को बैंकिंग उद्योग के समान पेंशन की सुविधा देने का मार्ग प्रशस्त करें।
  2. ग्रामीण बैंकों के निजीकरण के प्रस्ताव वापस लिए जाएं।
  3. बैंकिंग उद्योग में लागू शर्तों के अनुरूप ग्रामीण बैंकों में भी अगस्त, 2014 से अनुकम्पा नियुक्तियां किए जाने के आदेश दिए जाएं।
  4. कम्प्यूटर इंक्रीमेंट।
  5. प्रायोजक बैंकों के समान सेवा शर्तें, प्रोन्नति एवं भर्ती नियम बनाना।
  6. दैनिक वेतन भोगी और आकस्मिक कर्मचारियों को न्यूनतम भुगतान सीमा, सुविधाएं व नियमितीकरण।
  7. ग्रामीण बैंकों को भी भारतीय बैंक संघ का सदस्य बनाकर वार्ताएं हों।
  8. ग्रामीण बैंकों के लिए वर्तमान में बने वार्ता मंच जेसीसी की संस्तुतियों को लागू करने की बाध्यता हो।

ये भी पढ़ें- हर बोरी से पांच किग्रा गेहूं गायब कर देता था अनाज व्यापारी, किसान हो गया भौचक्का

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट आईएएनएस/आईपीएन

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top